बीजिंग | दुनिया का सबसे बड़ी आबादी वाला देश चीन में मुस्लिमो के प्रति नफरत बढती जा रही है. पिछले कुछ महीनो में कई ऐसी घटनाये घटी है जो इस और इशारा करती है. सबसे बड़ी बात यह है की खुद चीन की कम्युनिस्ट सरकार भी इसमें सहभागी बनती दिख रही है. शिनजांग प्रान्त में रहने उइगर मुस्लिम के खिलाफ कई कठोर आदेश देने के बाद सरकार ने नांगांग प्रातं में मस्जिद निर्माण को लेकर लोगो की नाराजगी को दबाने का भी प्रयास नही किया.

जानकारों के मुताबिक चीन का मध्यमवर्गीय समुदाय इस्लामोफोबिया से ग्रसित दिख रहा है. इसका एक उदहारण नांगांग प्रान्त में देखने को मिला. यहाँ एक इमाम ने मस्जिद बनाने का प्रस्ताव पास किया तो यहाँ रहने वालो स्थानियों लोगो ने इसका जमकर विरोध किया. सोशल मीडिया से लेकर सडको पर लोगो ने मस्जिद बनाने के खिलाफ प्रदर्शन किये. सोशल मीडिया पर तो मुस्लिम विरोधी मेसेज की जैसे बाढ़ आ गयी हो.

यहाँ तक की मस्जिद बनाने का प्रस्ताव पास करने वाले इमाम को सोशल मीडिया पर जान से मारने तक की धमकी मिलने लगी. लोगो का विरोध प्रदर्शन यही नही रुका उन्होंने उस जगह पर, जहाँ मस्जिद बनाने का फैसला किया था, वहां एक सूअर का सर काटकर गाढ़ दिया. इस दौरान स्थानीय नागरिको ने हाथ में मुस्लिम विरोध के नारे लिखी तख्तिया लेकर उस जगह को चारो और से घेर लिया.

इतना सब कुछ होने के बावजूद सरकार ने इसके विरुद्ध कोई कार्यवाही नही की. बल्कि इस विरोध को और बढने दिया. वही खुद सरकार ने भी मुस्लिम विरोधी अभियान छेड़ा हुआ है. शिनजांग प्रान्त में रहने वाले उइगर मुस्लिम सरकार के अजीबो गरीब फरमानों से परेशान है. अभी हाल ही में सरकार ने मुस्लिम लोगो के दाढ़ी रखने पर प्रतिबंध लगाया था. इससे पहले सरकार ने मुस्लिम महिलाओ को सार्वजानिक जगहों पर बुरखा पहनने पर रोक लगा दी थी.

यही नही पिछले साल रमजान के पाक महीने में सरकार ने सभी मुस्लिमो को रोजा न रखने का आदेश दिया था. ऐसे में अगर सरकार खुद मुस्लिम विरोधी अभियान चला रही हो तो वहां के नागरिक भी जरुर इससे प्रभावित होंगे. नांगांग के इमाम ताओ यिंगशेंग के अनुसार पिछले कुछ वक्त से चीन में मुस्लिमो के प्रति बर्ताव में काफी परिवर्तन आया है. अब यह काफी सख्त हो गया है. शिंनजांग प्रान्त में तो काफी हिंसा भी हुई है जिसमे सौ से ज्यादा लोग मारे जा चुके है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें