सऊदी का बड़ा ऐलान, बिना परमिट के हज के लिए फिंगरप्रिंटिंग करते पकड़े गए तो 10 साल के लिए देश निकाले की सजा तय

बिना परमिट के हज के लिए फिंगरप्रिंटिंग करते हुए पकडे गए किसी भी व्यक्ति के को 10 साल का डेपोर्टेशन का सामना करना पड़ेगा

पासपोर्ट के सामान्य निदेशालय (जवाज़त) ने उन लोगों के लिए दंड का खुलासा किया जो बिना परमिट प्राप्त किए बिना अगर हज के लिए फिंगरप्रिंटिंग करते पकड़े गए तो भारी जुर्माना सहित अन्य सजाओ का भी हकदार होगा।

जवाज़त ने पुष्टि की कि बिना परमिट प्राप्त किए हज के लिए फिंगरप्रिंटिंग पकड़े जाने वाले किसी भी व्यक्ति को 10 साल की अवधि के लिए सऊदी अरब से निर्वासित यानी की निकाल दिया जाएगा।

इस बीच, जवाजत ने कहा है कि फैमिली विजिट वीजा को रेजिडेंसी परमिट (इकमा) में नहीं बदला जा सकता है, इस बात पर जोर देते हुए कि निर्देश इसकी अनुमति नहीं देते हैं।

हज और उमराह मंत्रालय ने पहले पुष्टि की थी कि इस वर्ष के लिए हज की रस्में केवल उन लोगों द्वारा की जा सकती हैं जिनके पास हज के लिए नामित वीजा है, या वे जो एक इकामा के साथ किंगडम में रह रहे हैं।

इस वर्ष हज करने के लिए, नागरिकों और निवासियों को COVID-19 वैक्सीन की तीन खुराक पूरी करनी होगी।

यह उल्लेखनीय है कि हज और उमराह मंत्रालय ने घोषणा की कि उसने इस साल एक मिलियन ज़ायरीनों, दोनों विदेशी और घरेलू, को हज करने की अनुमति देने का फैसला किया है।

मंत्रालय ने कहा कि सऊदी अरब के अंदर से इस साल के हज के लिए आवेदन करने की प्रक्रियाओं की घोषणा जल्द ही इसकी आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से की जाएगी।

विज्ञापन