फ्रांस में मुसलमानों ने ग़ैर मुसलमानों के साथ संवाद को बढ़ावा देने की पहल की है. इस पहल के तहत मस्जिदों में अन्य मजहब के लोगों को आमंत्रित किया जा रहा है ताकि वे इस्लाम को सही मायने में समझ सकें.

फ्रांस

हफ्ते के आख़िरी दिनों में होने वाले इस आयोजन में मस्जिद आने वाले ग़ैर मुसलमानों का स्वागत गर्म पेय और पेस्ट्री के साथ किया जा रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

फ्रांस में अग्रणी मुस्लिम संस्था ‘फ्रेंच काउंसिल ऑफ द मुस्लिम फैथ’ ने हालिया जेहादी हमलों के बाद मुख्यधारा के इस्लाम को जेहादियों से अलग करने की कोशिश की है.

पेरिस में व्यंग्य पत्रिका शार्ली एब्डो के दफ्तर पर चरमपंथी हमले के एक वर्ष बाद यह क़दम उठाया गया है. पिछले साल पेरिस में चरमपंथी हमले की अलग-अलग घटनाओं में 17 लोग मारे गए थे. साभार: बीबीसी हिंदी

Loading...