Saturday, June 19, 2021

 

 

 

पैगंबर मुहम्मद के कैरिकेचर का विरोध करने वाले विदेशी परिवारों को फ्रांस करेगा निर्वासित

- Advertisement -
- Advertisement -

पैगंबर मुहम्मद (सल्ल) के कैरिकेचर को लेकर पूरी दुनिया में विरोध का सामना करने के बाद भी फ्रांस अपने इस्लाम विरोधी रवैये से बाज नहीं आ रहा है। अब फ्रांसीसी सरकार पैगंबर मुहम्मद (सल्ल) के कैरिकेचर का विरोध करने वाले विदेशी परिवारों को फ्रांस से निर्वासित करेगा।

फ्रेंच यूरोप 1 रेडियो से बात करते हुए फ्रांसीसी आंतरिक मंत्री गेराल्ड डर्मैनिन ने कहा कि विदेशी परिवार जो स्कूलों में दिखाए जा रहे पैगंबर मुहम्मद के कैरिकेचर पर आपत्ति करते हैं, निर्वासन का सामना कर सकते हैं। उन्होने कहा कि उत्तेजक भाषणों को नि: शुल्क भाषण के तहत संरक्षित किया जाता है और जो शिक्षक को छवियों को नहीं दिखाने के लिए कहते हैं, उन पर मुकदमा चलाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि विदेशी परिवारों को ध्यान देना चाहिए क्योंकि वे “अपराध” के लिए अभियोजन के दौरान निर्वासन का सामना कर सकते हैं। दूसरी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने मुस्लिम नेताओं से कट्टरपंथी इस्लाम के एक व्यापक दबदबे के हिस्से के रूप में “रिपब्लिकन मूल्यों के चार्टर” को स्वीकार करने के लिए कहा है।

बुधवार को उन्होंने फ्रांसीसी काउंसिल ऑफ द मुस्लिम फेथ (सीएफसीएम) को चार्टर स्वीकार करने के लिए 15 दिन का अल्टीमेटम दिया। चार्टर में कहा गया है कि इस्लाम एक धर्म है और एक राजनीतिक आंदोलन नहीं है, जो मुस्लिम समूहों में “विदेशी हस्तक्षेप” को भी प्रतिबंधित करता है।

इस सबंध में बुधवार की देर रात, राष्ट्रपति और उनके आंतरिक मंत्री गेराल्ड डार्मैनिन ने सीएफसीएम के आठ नेताओं से मुलाकात की। मैक्रोन ने संकेत दिया है कि वह तुर्की, मोरक्को और अल्जीरिया जैसे देशों से अनुमानित से आए 300 इमामों को चार साल के भीतर देश छोड़ने के लिए कह सकते है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles