पैगंबर ए इस्लाम के अपमानजनक कार्टून को अपना समर्थन देकर पूरी दुनिया में विरोध झेल रही फ्रांसीसी सरकार ने पाकिस्तान से उसके खिलाफ प्रयुक्त नाजी शब्द में सुधार की मांग की है।

दरअसल, पाकिस्तान के संघीय मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी ने शनिवार को ट्विटर पर एक ट्वीट में कहा था कि राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन द्वितीय विश्व युद्ध में नाज़ियों के साथ हुए यहूदियों जैसा व्यवहार कर रहे। उनकी ये टिप्पणी व्यंग्यपूर्ण फ्रेंच पत्रिका चार्ली हेब्दो द्वारा पैगंबर मुहम्मद (सल्ल) के कैरिकेचर के पुन: प्रकाशन को लेकर पाकिस्तान और फ्रांस के बीच टकराव के बाद सामने आईं।

मजारी ने एक ट्वीट में कहा, “मैक्रोन मुसलमानों के साथ वहीं कर रहा है, नाज़ियों ने यहूदियों के साथ जो किया – मुस्लिम बच्चों को आईडी नंबर मिलेंगे [वैसे ही बच्चे भी अपने कपड़ों पर पीले रंग के स्टार को पहनने के लिए मजबूर थे।”

फ्रांस के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता एग्नेस वॉन डेर मुहेल ने कहा कि पेरिस ने टिप्पणियों की कड़ी निंदा करते हुए पाकिस्तान के दूतावास को सूचित किया। उन्होने कहा, “ये घृणित शब्द घृणा और हिंसा की विचारधारा के साथ निहित झूठ हैं। इस तरह की बदनामी इस स्तर की जिम्मेदारी के योग्य नहीं है। हम उन्हें सबसे बड़ी दृढ़ता के साथ अस्वीकार करते हैं।”

“पाकिस्तान को इन टिप्पणियों को सुधारना चाहिए और सम्मान के आधार पर बातचीत के रास्ते पर लौटना चाहिए।” बता दें कि अक्टूबर के अंत में पाकिस्तान की संसद ने एक प्रस्ताव पारित किया जिसमें सरकार को पेरिस से अपने दूत को वापस बुलाने का आग्रह किया गया, जिसमें मैक्रोन पर मुसलमानों के खिलाफ “घृणा” फैलाने का आरोप लगाया गया।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano