अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा सात मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों पर अमेरिका में प्रवेश पर लगाये गये अस्थायी प्रतिबंध का खामियाजा अब दुसरे गैर मुस्लिम राष्ट्रों के नागरिकों को भी भुगतना पड़ रहा हैं. इस कड़ी में नार्वे के भूतपूर्व प्रधानमंत्री को अमरीका में प्रवेश के बाद हिरासत में ले लिया गया.

केल मैंगे बोन्डविक जो 1997 से 2005 तक दो बार नार्वे के प्रधानमंत्री रहे हैं. 2014 में उन्होंने ईरान की यात्रा की थी. मंगलवार को वह युरोप से अमरीका के  वाशिंग्टन डलेस एअरपोर्ट पर जैसे ही पहुंचे, उन्हें हिरासत में लिया गया. दरअसल उनके पास्पोर्ट पर ईरान में प्रवेश की मुहर लगी थी.

इस घटना को लेकर बुधवार को उन्होंने कहा कि न्हें लगभग एक घंटे तक डलेस एअरपोर्ट पर रोके रखा गया वह भी सिर्फ इस लिए कि उन्होंने सन 2014 में ईरान की यात्रा की थी. उन्होंने कहा कि उनके पास्पोर्ट से यह साबित होता है कि वह अमरीका के मित्र देश नार्वे के भूतपूर्व प्रधानमंत्री हैं.

उन्होंने कहा,” मैं अमरीकी अधिकारियों की चिंता को समझता हूं किंतु उन्हें भी समझना चाहिए कि मैं आतंकवादी नहीं हूं. उन्होंने बताया कि जब उन्हें पता चल गया कि मेरे पास डिप्लोमेटिक पास्पोर्ट है और मैं नार्वे का प्रधानमंत्री रह चुका हूं तो उन्हें पूछताछ रोक देनी चाहिए थी.

पूर्व प्रधानमन्त्री ने आगे कहा, उन्हें यह समझना चाहिए था कि मैं अमरीका के लिए कोई खतरा नहीं हूं और मुझे फौरन जाने की इजाज़त देनी चाहिए थी लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया बल्कि मुझे और पूछताछ के लिए एक दूसरे कमरे में ले गये और चालीस मिनट तक इंतेज़ार करने के बाद बीस मिनट तक ईरान यात्रा के बारे में पूछताछ की.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें