Thursday, December 2, 2021

लॉस वेगास हमला – फेसबुक और गूगल से फैलाई गयी झूठी ख़बरें

- Advertisement -

las

न्यूयॉर्क – अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव प्रचार के समय से सोशल मीडिया पर फेक न्यूज़ को लेकर काफी दफा हंगामा हो चूका है तथा अमेरिका में इसे लेकर सरकार गंभीर है. इस दौरान सोशल मीडिया पर जंगल की आग की तरह फैली एक फेक न्यूज़ ने इस आग में घी डालने का काम किया.

गौरतलब है की सोमवार को लास वेगास के एक कैसिनो पर स्टीफान पैड्डॉक मेस्क्वाइट नामक व्यक्ति ने फायरिंग की और 50 से ज्यादा लोगों की जान ले ली। इस हमले में सैंकड़ों लोग भी घायल हो गए। एक तरफ जहां लोग हमले में अपनों को खोने के गम से दुखी थे तो वहीं फेसबुक और गूगल झूठी खबरों को बढ़ावा देने में लगे थे। लास वेगास की घटना को अमेरिकी इतिहास में फायरिंग की सबसे खतरनाक घटना करार दिया गया है।

गलत व्यक्ति को बना दिया गया दोषी

जब लाग वेगास के हमलावर ने अंधाधुंध फायरिंग करके लोगो की जान ली उसके तुरंत बाद से गैरी डेनले नामक एक व्यक्ति को उसकी प्रोफाइल के आधार पर इस हमले का दोषी करार दिया गया। कुछ ही सेकेंड्स बाद उस व्यक्ति को एक आतंकी के तौर पर बताया जाने लगा। डेनले की गलती सिर्फ इतनी थी कि वह एक डेमोक्रेट हैं और उन्होंने रेचेल मैड्डो शो को कुछ ही देर पहले लाइक किया था। इसके अलावा कुछ और पेज जैसे थैंक्यू ओबामा और बायकॉट ऑल थिंग्स ट्रंप जैसे पेज भी उनके पसंदीदा हैं। रेचेल मैड्डो शो में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों के समय ट्रंप विरोधी कार्यक्रमों के लिए जाना जाता है। उनके नाम को लेकर गलत और झूठी खबरें आने लगी और डेनले का नाम गूगल सर्च में टॉप पर आ गया जबकि डेनले इन सबसे अनजान थे। इसके बाद एक न्यूज साइट गेटवे पंडित ने एक आर्टिकल पोस्ट कर डाला और कुछ ही देर बाद उस आर्टिकल को डिलीट भी कर दिया गया।

क्या कहा गया था फेक न्यूज़ में?

जो गलत खबरें शेयर की जा रही थीं उनमें से ही कुछ खबरें ऐसी भी थीं जिनमें दावा किया गया था कि एफबीआई का कहना है कि हमलावर आईएसआईएस से जुड़ा हुआ था। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने फेसबुक को चेतावनी दी थी और कहा था कि फेसबुक फर्जी खबरों से दूर रहे। फेसबुक पर यह आरोप भी लगे हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप की जीत के पीछे फेक न्यूज आर्टिकल्स का बड़ा योगदान है।

वहीँ गूगल ने भी इस मामले को संज्ञान लेते हुए गेटवे पंडित के आर्टिकल के लिंक को दूसरे और जरूरी आर्टिकल के लिंक से रिप्लेस कर दिया। वहीं दूसरी ओर फेसबुक की ओर से भी जानकारी दी गई कि उसकी सिक्योरिटी टीम ने गेटवे पंडित की साइट पर मौजूद आर्टिकल और उसके जैसी बाकी आर्टिकल्स से भी फेसबुक का लिंक हटा दिया गया है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles