अंकारा : तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान ने शुक्रवार को कहा की “तुर्की सेना किसी भी समय अफरीन में कुर्दिश-सीरियन टावर में प्रवेश कर सकती है.” अफरीन के जनदैरिस  क्षेत्र में तुर्की सेना का नियंत्रण बनने के एक दिन बाद एर्दोगान ने अंकारा में अपनी रुल्लिंग पार्टी से कहा की “अब हमारा उद्देश्य अफरीन है, अब हमने अफरीन को घेर लिया है और हम किसी भी समय अफरीन में प्रवेश कर सकते हैं.”

एर्दोगान ने चेतावनी भी दी और कहा की  “जब तक आतंक की यह दलदल सूख नहीं जाती तब तक अफरीन में कार्यवाही जारी रहेगी”.

अंकारा ने दावा किया था की “अफरीन में कुर्दिश सेना एक चुनौती थी, वहीं अमेरिका सेना के फाइटर ग्रुप के एक प्रवक्ता ने कहा की “तुर्की सेना अभी भी अफरीन केंद्र से 10 किमी दूर हैं” अंकारा ने 20 जनवरी को अफरीन क्षेत्र में उत्तरी सीरिया में वाईपीजी सैनिकों के खिलाफ ऑपरेशन ओलिव ब्रांच की शुरुआत की थी, जो की उत्तरी क्षेत्र में अपना नियंत्रण बनाये रखता है लेकिन तुर्की उसे आतंकवादी समूह मानता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गुरुवार को तुर्की के विदेश मंत्री ने कहा कि तुर्की सेना मई तक अफ्रिन में अपने आक्रमण को पूरा करेगी और इराक में कुर्दिश आतंकवादियों के खिलाफ इराक के संसदीय चुनावों के बाद बगदाद के साथ मिलकर संयुक्त हमला करेगी,  ऑपरेशन ओलिव के लॉन्चिंग के बाद हुए हमलों के बाद 42 तुर्की सैनिकों ने अपनी जान गंवा दी थी.”

सौजन्य से-अरब न्यूज

उन्होंने कहा की “तुर्की सेना और उसके सीरियाई सहयोगी पिछले हफ्तों में कई नई गति हासिल कर चुके हैं, जंदैरीस का कब्जा प्रमुख केन्द्रों में एक है.  लेकिन ऑपरेशन ओलिव ब्रांच ने संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ तनाव बढ़ाया है, जिसने तुर्की की सेना को आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई में अपने नाटो के सदस्य के साथ संबद्ध एक मिलिशिया फोर्स के खिलाफ खड़ा किया था.

अरब न्यूज के अनुसार एर्दोगान ने भी अपने पिछले बयान की पुष्टि की, जिसमे उन्होंने कहा था की “तुर्की खुद YPG के Afrin क्षेत्र को साफ करने के लिए सीमित नहीं होगा, वह इसे पूर्वी मनबीज शहर और इराकी सीमा तक ले जाना चाहता था.” 

एर्दोगान ने कहा था की “आज हम अफरीन में हैं और कल हम मानबिज में होंगे और अगले दिन हम यह सुनिश्चित करेंगे कि आतंकवादियों का फरात नदी के पूर्व में ईराकी सीमा तक सफाया कर दिया गया है.”

पिछले महीने अंकारा के दौरे पर, अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलर्सन ने भी कहा था कि तुर्की और अमेरिका को मानबिज के आसपास के तनाव को “प्राथमिकता” के रूप में हल करना चाहिए था.

Loading...