er

बैतूल मुक्कदस को इजरायल की राजधानी के रूप में अमेरिका के फैसले के चलते तुर्की राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान ने इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) के सदस्य देशों के नेताओं की इस्तांबुल में तत्काल बैठक बुलाई है.

बुधवार को एर्दोगान के प्रवक्ता इब्राहिम कलिन ने कहा कि ओआईसी के सदस्य राज्यों और मुस्लिम देशों को संयुक्त कार्रवाई और समन्वय दिखाने के लिए एक साथ आना चाहिए.

कलिन ने कहा, यरूशलेम हमारा सम्मान है, हमारा आम कारण है, और जैसा कि श्री राष्ट्रपति ने कल कहा, यह हमारी लाल रेखा है. कलिन ने संवाददाताओं से कहा, एर्दोगान ने फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास सहित मलेशिया ट्यूनीशिया, ईरान, कतर, सऊदी अरब, पाकिस्तान, इंडोनेशिया आदि मुस्लिम देशों के नेताओ से इस मुद्दें पर बातचीत की.

कलिन ने जोर देकर कहा कि यह यरूशलेम में यथास्थिति को बदलने के लिए एक भयानक गलती होगी, “यह ऐतिहासिक, धार्मिक और कानूनी स्थिति के संदर्भ में यरूशलेम की इजरायल की राजधानी के रूप में घोषित होने की बड़ी गलती होगी.

उन्होंने बताया, राष्ट्रपति एर्दोगान ने फैसले की घोषणा से पहले कई फोन कॉल किए हैं, जिसमें मलेशियाई, ट्यूनीशिया, ईरान, कतर, सऊदी अरब, पाकिस्तान और इंडोनेशिया की सरकारों सहित विश्व के नेताओं के साथ इस मामले पर चर्चा की गई है.

एर्दोगान ने अपने बयान में कहा कि इज़राइल की राजधानी के रूप में यरूशलेम की पहचान केवल आतंकवादी संगठनों के लिए ही होगी. उन्होने कहा, मध्य पूर्व में कोई स्थायी शांति नहीं होगी, जब तक कि 1967 की सीमाओं के तहत पूर्व यरूशलेम की राजधानी के रूप में एक स्वतंत्र और सार्वभौमिक फिलिस्तीनी राज्य का गठन नहीं किया जाता.

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano