अरामको पर एर्दोगन का बड़ा बयान, इशारों में सऊदी को बताया जिम्मेदार

7:15 pm Published by:-Hindi News
erdd

सऊदी अरब में मौजूद दुनिया के सबसे बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको पर शनिवार को हुए ड्रोन अटैक को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने कहा कि जो कोई भी यमन में पहला ब*म गिराता है। वहीं इस पूरे संकट के लिए जिम्मेदार है।

सोमवार को अपने रूसी और ईरानी समकक्षों के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए, एर्दोगन ने कहा: “यमन पर सबसे पहले ब*म किसने गिराए? यदि उस प्रश्न का उत्तर मिल सकता है, तो मेरा मानना है कि हम इस निष्कर्ष पर पहुंचेंगे कि वर्तमान बिंदु एक उकसावे वाला है।”

वहीं ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सुझाव दिया कि यह हमला आत्मरक्षा का एक कार्य था। उन्होंने कहा, “यमनी लोग रक्षा के अपने वैध अधिकार का प्रयोग कर रहे हैं … ये हम*ले वर्षों से यमन के खिलाफ आक्रामकता की पारस्परिक प्रतिक्रिया थी।

इसके अलावा राष्ट्रपति विलादमीर पुतीन से इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होने कहा कि यमन में जो कुछ हो रहा है मानवीय त्रासदी है और इस समस्या का समाधान, यमन और सऊदी अरब के मध्य वार्ता द्वारा होना चाहिए।

पुतीन ने अपने भाषण में कुरआने मजीद के सूरए आले इमरान की आयत नंबर 103 का रुसी अनुवाद पढ़ा जिसमें कहा गया है कि “सब लोग अल्लाह की रस्सी को मज़बूती से थामे रहो और एक दूसरे से दूर न रहो और अल्लाह की इस कृपा को याद करो कि तुम एक दूसरे के दुश्मन थे तो उसने तुम्हारे दिलों को एक दूसरे से जोड़ दिया इस तरह से तुम उसकी कृपा से भाई- भाई बन गये।”

साथ ही उन्होने सूरए बक़रा की आयत नंबर 190 का रुसी अनुवाद पढ़ा जिसमें कहा गया है कि ”अल्लाह की राह में उन लोगों से लड़ों जो तुमसे युद्ध करते हैं लेकिन किसी पर तुम हमला न करो क्योंकि अल्लाह, अतिक्रमणकारियों को पसंद नहीं करता।”

Loading...