अंतरराष्ट्रीय बाल चिकित्सा संघ (आईपीए) ने सोमवार को तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैय्यब एर्दोगान को शांति पुरूस्कार से सम्मानित करने का ऐलान किया है.

आईपीए के अधिकारियों ने तुर्की में शरणार्थी शिविरों का दौरा करने के बाद एर्दोगान के लिए इस पुरूस्कार की घोषणा की है. एसोसिएशन के बाहरी संबंध विभाग के प्रमुख केमर हसनोग्लू ने कहा कि आईपीए मैनेजमेंट ने शरणार्थी बच्चों के जीवन में उनके योगदान के लिए एर्दोगान को पुरस्कार देने का फैसला किया.

उन्होंने कहा कि “क्योंकि तुर्की ने 1.5 मिलियन से अधिक बच्चों को मदद की पेशकश की और उनकी मदद के लिए ऐसे वक्त हाथ बढ़ाया जबकि वे मौत के मुंह में थे और अनेक देश उदासीन बने हुए थे.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Image result for refugee child in turkey

हसनोग्लू ने कहा, एर्दोगान के नेतृत्व में तुर्की ने इन देशों की बच्चों की मदद ऐसे वक्त में की. जब कई देश इस स्थिति को नजरअंदाज करने में लगे हुए थे.

अंडोलु एजेंसी (एए) के अनुसार, तुर्की में इस वक्त सीरियन शरणार्थियों की संख्या 3,506,532 तक पहुंच गई हैं. तुर्की ने अब तक इस विस्थापित आबादी के कल्याण पर 30.2 अरब डॉलर से अधिक खर्च किया है.  तुर्की अब तक 612,603 सीरिया के बच्चों को शिक्षा प्रदान कर चूका है.

तुर्की ने शरणार्थियों की शिक्षा पर 15.4 अरब डॉलर का निवेश किया है, जबकि स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 16.3 अरब डॉलर का निवेश किया है.