Thursday, August 5, 2021

 

 

 

दिल्ली हिंसा पर बोले तुर्की राष्ट्रपति – भारत में मुस्लिमों का नरसंहार कर रहे हिन्दू

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली में मुस्लिम विरोधी हिंसा को लेकर मुस्लिम देशों के सबसे बड़े वैश्विक मंच इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) की कड़ी टिप्पणी के बाद अब तुर्की राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन का कडा बयान आया है। जिसमे उन्होने दिल्ली में मुस्लिमों का नरसंहार का आरोप लगाते हुए कहा कि हिन्दू मुस्लिमों का नरसंहार कर रहे है।

तुर्की राष्ट्रपति ने अंकारा में अपने भाषण में कहा, ‘वर्तमान में भारत एक ऐसा देश बन गया है जहां नरसंहारों को अंजाम दिया जा रहा है।’ उन्होंने सवाल किया, किसका नरसंहार? मुस्लिमों का नरसंहार। कौन कर रहा है- हिंदू। जामिया का नाम लिए बिना उन्होने कहा, भीड़ ने ट्यूशन सेंटरों में पढ़ रहे मुस्लिमों के बच्चों को लोहे की रॉड से पीटा जैसे कि वे उन्हें मारना चाहते हों।

उन्होने आगे कहा, ‘ये लोग कैसे वैश्विक शांति स्थापित होने देंगे? ये असंभव है। भाषण देते वक्त- क्योंकि उनकी आबादी ज्यादा  है- वे कहते हैं कि हम मजबूत हैं लेकिन ये ताकत नहीं है।’ एर्दोगान की इस टिप्पणी पर भारत के स्थायी मिशन के फर्स्ट सेक्रेटरी विमर्श आर्यन ने कहा, ‘मैं तुर्की को केवल यही सलाह दे सकता हूं कि भारत के आंतरिक मामले पर टिप्पणी करने से दूर रहे और घरेलू राजनीति की समझ बेहतर करे’

इससे पहले इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) ने गुरुवार को कहा कि भारत में मुसलमान खतरे में है। ओआईसी ने ट्वीट किया, भारत में मुस्लिमों के खिलाफ हालिया हिंसा में तमाम मौतें हुईं और मासूम लोग जख्मी हुए जो खतरे की घंटी है। नई दिल्ली में हुई हिंसा में मुस्लिमों की संपत्ति और मस्जिदों को नुकसान पहुंचाए जाने की हम कड़ी निंदा करते हैं। संगठन ने कहा कि इन घृणित कृत्यों के पीड़ित के परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं।

ओआईसी ने #IndianMuslimsInDanger हैशटैग का इस्तेमाल करते हुए भारतीय प्रशासन से मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा भड़काने और साजिश रचने वाले लोगों को सजा दिलाकर न्याय सुनिश्चित करने की मांग की। ओआईसी ने ये भी कहा कि भारतीय प्रशासन अपने मुस्लिम नागरिकों और देश भर में इस्लाम के पवित्र स्थलों की सुरक्षा करे।

हालांकि ओआईसी के इस बयान पर भारत ने आपत्ति जताई, कहा, इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) का बयान गलत और गुमराह करने वाला है।विदेश मंत्रालय ने मुसलमानों के खिलाफ कथित भेदभाव पर समूह की टिप्पणियों पर कहा, सामान्य स्थिति बहाल करने की कोशिशें चल रही है, हम संगठनों से गैरजिम्मेदाराना बयान न देने का अनुरोध करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles