erdo11

erdo11

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैय्यब एर्दोगान कई मौकों पर खिलाफत-ए-उस्मानिया को फिर से जिंदा करने का जिक्र कर चुके है. हाल ही में उन्होंने कहा था कि टोमन साम्राज्य को खड़ा करने के लिए तुर्की गणराज्य की निरंतरता जारी है. एक बार फिर से उन्होंने इस सबंध में बयान दिया है.

शनिवार को इस्तांबुल के इमाम खतीब स्कूल में एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते पहुंचे एर्दोगान ने मदीना मुनव्वरा की मिसाल देता हुए कहा कि मुसलमानों ने सब्र का दामन थामे रखा तो जल्द ही फिर से तुर्की में खिलाफत-ए-उस्मानिया दुबारा से कायम होगी. उन्होंने कहा कि मदीना में मुसलमानों ने जिस तरह से सब्र के दामन को थामे रखा उसके बदले अल्लाह ने उन्हें मक्का फ़तेह का इनाम अता किया.

इससे पहले ओट्मन सुल्तान अब्दुलहैद द्वितीय की मृत्यु के शताब्दी समारोह के दौरान उन्होंने कहा था कि “तुर्की गणराज्य, हमारे पिछले राज्यों की तरह एक दूसरे की निरंतरता है. यह ओटोमन की निरंतरता है. उन्होंने कहा, बेशक, सीमाएं बदल गई हैं. सरकार के रूप बदल गए हैं … लेकिन सार एक ही है, आत्मा एक जैसी है, यहां तक ​​कि कई संस्थान भी समान हैं.

इसी के साथ ओटोमन साम्राज्य की उन्ही पुरानी जड़ों को विकसित करने के लिए एर्दोगान हुकूमत की कोशिशे जारी है. तुर्की हुकूमत इस्लामिक तालीम से एक नई पीड़ी खड़ी करना चाहते है. जो तुर्की में एक नई सभ्यता के निर्माण के लिए काम करेगी. इसके लिए इस्लामिक तालीम हेतु अरबों डॉलर का धन दिया जा रहा है. स्कूलों में इमामों की नियुक्ति की जा रही है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?