erdo4567

बैतुल मुक़द्दस (जेरुसलम) के मामले में तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब एर्दोगान ने एक बार फिर से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को स्पष्ट शब्दों  चेताते हुए कहा कि मुस्लिम दुनिया बैतुल मुक़द्दस पर कोई समझौता नहीं करने वाली है.

अमरीकी शहर शिकागो में उत्तरी अमरीकी-मुस्लिम अमरीकी सोसाइटी कन्वेन्शन को संबोधित करते हुए एर्दोगान ne कहा कि बैतुल मुक़द्दस सभी मुसलमानों के लिए लाल रेखा है. उन्होंने सभी मुसलमानों से अपील की कि वे किसी को इजाज़त न दें कि उन्हें जातीय, सांप्रदायिक या सांस्कृतिक आधार पर बांट सके.

एर्दोगान ने अपने भाषण में दुनिया में चल रहे तनाव और बढते विवादों पर ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि मुस्लिम दुनिया को “अपनी असली ताकत समझनी होगी और एकजुटता बनाई रखनी होगी.”

तुर्की राष्ट्रपति ने आगे कहा कि, “यह वक़्त ऐसा है जहाँ दुनिया भर के मुस्लिमों को अपनी वास्तविक ताकत दिखानी होगी और आगे बढना होगा. हमें किसी को जातिय, सांप्रदायिक या सांस्कृतिक मतभेदों के आधार पर बांटने की ज़रूरत नहीं है, बल्कि हमे एक होने की ज़रूरत है.”

उन्होंने यह भी कहा, ” इन दिनों वैश्विक राजनीति, अर्थशास्त्र और राजनयिक अशांतियां मुस्लिम दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में तेज़ी से फ़ैल रहा है, जबकि हम मुस्लिम दुनिया के लिए शांति के समाधान खोजने की कोशिश कर रहे हैं. एक तरफ दुनिया में ऐसे मुसलमान हैं जो सीरिया, इराक, यमन और सोमालिया में संघर्ष, आतंक, अकाल और गरीबी से जूझ रहे हैं, इसी के साथ  यह देशों को इस्लामोफोबिया के पैदा होने और पश्चिमी देशों में सांस्कृतिक भेदभाव के खिलाफ संघर्ष कर रहे है.”

एर्दोगान ने यह भी कहा कि यह वक़्त दुनिया भर के मुस्लिमों को एक साथ आने का है और येरुशलम की अहमियत समझने का है. दुनिया के मुसलमानों को अमन के प्रयासों को आगे बढ़ाने की ज़रूरत है. मुस्लिम जगत को एकजुट होकर येरुशलम के हक़ में अमेरिका और इजराइल के खिलाफ आवाज़ उठाने की हिम्मत होनी चाहए.

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano