bribe

दुबई में चार आदमियों पर रिश्वत देने का आरोप लगाया गया है, जिन पर लोन प्राप्त करने के लिए रिश्वत देने का आरोप लगाया गया है.

सार्वजनिक अभियोजन रिकॉर्ड के अनुसार चार पुरुषों, जिनमे दो पकिस्तानी और दो भारतीय थे, जिनकी उम्र 28 से 45 वर्ष के बीच में हैं, ने बैंक के कर्मचारी को रिश्वत देकर 10 प्रतिशत सुविधाओं और ऋणों के लिए कहा, उन्होंने अपने वेतन प्रमाण पत्र सहित फर्जी कागजात भी शामिल किए, जिनमें से एक पाकिस्तानी, जो की एक सेल्स ऑफिस में काम कर रहा था और जिसका मासिक वेतन 3,90,859 रुपये था.

चारों व्यक्तियों ने फर्जी डाक्यूमेंट्स का इस्तेमाल किया, जिसमें बैंक स्टेटमेंट की फर्जी फोटोकॉपी, अमीराती आई-डी की जाली कॉपी, फर्जी रेसिडेंस वीजा की कॉपी और पासपोर्ट शामिल था, व्यक्तियों पर गैरकानूनी, जालसाज़ी और फर्जी दस्तावेजों के इस्तेमाल कर सरकारी कर्मचारी को रिश्वत देने का आरोप व्यक्तियों पर लगाया गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

चारों व्यक्तियों में से एक पाकिस्तानी को धोखाधड़ी और जाली डाक्यूमेंट्स के लिए पहले पूछताछ की गयी, पाकिस्तानी ने स्वीकार किया कि “वह वित्तीय संकट का  सामना कर रहे थे. जिसके बाद उन्होंने अपने एक मित्र से संपर्क किया, मित्र ने बताया की “वह बैंक में कुछ लोगों को जानते हैं, जिससे वह नकली कागजों के साथ बैंक लोन प्राप्त कर सकते हैं,  बाद में पाकिस्तानी ने अन्य दोस्तों, जिनमे दो भारतीय भी शामिल यहीं, से अपने मित्र की मुलाक़ात करवाई.

उस दोस्त ने तब लोन के लिए आवेदन किया और 6,94,486 रुपये का लोन बैंक से प्राप्त किया, जिसमे से चारों व्यक्तियों में से पाकिस्तानी व्यक्ति को 5,20,983 रुपये का लोन मिल गया, चारो व्यक्तियों ने ऐसा ही तीन बार नकली कागजों को लेकर बैंक से लोन प्राप्त किया, हालाँकि मुकदमा अभी 7 फरवरी तक स्थगित कर दिया गया है.

Loading...