op

डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति बनते ही अमेरिका में मुसलमान सहित अन्य अल्पसंख्यक समुदायों में खौफ का माहोल हैं. शनिवार को न्यूयॉर्क में न्यूयॉर्क पुलिस विभाग में कार्यरत मुस्लिम पुलिस अफ़सरों की एक संस्था मुस्लिम पुलिस आफ़िसर्स एसोसिएशन ने ब्रुकलिन में एक रैली का आयोजन किया.

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, मुस्लिम पुलिस आफ़िसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अदील राना ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि “हम अपने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को जीत की बधाई देते हैं. उन्हें यह भी याद दिलाना चाहते हैं कि इस देश में वे अमरीकी भी रहते हैं जो मुसलमान हैं. मैं अपने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से अपील करता हूं कि वह मुसलमानों की ओर भी हाथ बढ़ाएं, मुसलमान अमरीकी भी उनका सहयोग करने को तैयार हैं.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अदील राणा ने मुस्लिम समुदाय से भी अपील की कि वह किसी भी डर के बिना अपनी ज़िंदगी जैसे जीते आए हैं वैसे ही जिएं और किसी भी किस्म के नस्लीय भेदभाव के मामले के बारे में पुलिस को सूचित करें. रैली में शामिल एक मुस्लिम संस्था वन नेशन यूएस के अध्यक्ष नदीम मियां का कहना था कि मुसलमान लोग अमरीका में ही रहेंगे.

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, न्यूयॉर्क के मेयर बिल द ब्लासियो की एक मुस्लिम सलाहकार सारा सईद ने भी रैली में मेयर का संदेश सुनाया और मुस्लिम शहरियों से अपील की कि वह बिना ख़ौफ़ अपना जीवन व्यतीत करें. सारा सईद ने नस्ली भेदभाव के बारे में कहा, “अगर कोई भी नस्ल और धर्म के आधार पर भेदभाव के किसी मामले का ख़ुद शिकार हों या आपको उसके बारे में पता चले तो फ़ौरन शहर के पुलिस विभाग को सूचित करें. अगर हिंसक मामला है तो फौरन 911 पर कॉल करें.”

Loading...