अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी नौसैना के एक पोत ने होरुम्ज जलडमरूमध्य में एक ईरानी ड्रोन को मार गिराया है जो उसकी सीमा के काफी करीब आ गया था। हालांकि ईरान ने अमेरिका के दावे को खारिज किया है।

दरअसल, पेंटागन के मुख्य प्रवक्ता जोनाथन होफ्फमेन ने बृहस्पतिवार को कहा कि यह घटना स्थानीय समयानुसार सुबह करीब 10 बजे हुई जब अमेरिकी युद्धपोत यूएसएस बॉक्सर अंतरराष्ट्रीय जलक्षेत्र में जलडमरूमध्य से गुजर रहा था। ट्रंप ने कहा कि युद्धपोत बॉक्सर को ईरानी ड्रोन पर यह रक्षात्मक कार्रवाई इसलिए करनी पड़ी क्योंकि वह “बहुत नजदीक आ गया था” तकरीबन 1000 यार्ड की दूरी पर। उन्होंने कहा कि इस ड्रोन से कई बार वापस जाने को कहा गया लेकिन वह इसे नजरअंदाज करता रहा तथा पोत एवं चालक दल के सदस्यों की सुरक्षा को खतरे में डाल रहा था।

राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, “ड्रोन को तत्काल मार गिराया गया। अंतरराष्ट्रीय जल क्षेत्र में पोतों के संचालन के खिलाफ यह ईरान के उकसावे एवं शत्रुतापूर्ण हरकतों में से सबसे नयी घटना है।”

इस बारे में  ईरान के विदेश मंत्री मो. जारिफ ने ऐसी किसी घटना से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना के बारे में कोई सूचना नहीं है। ईरान ने अपना कोई ड्रोन नहीं खोया है। बता दें कि करीब एक महीने पहले ईरान ने अमेरिकी ड्रोन को मार गिराया था।

ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड ने 20 जून को दावा किया था कि उसने अमेरिका के एक ‘जासूस ड्रोन’ को मार गिराया है। ईरानी सेना का दावा था कि अमेरिकी ड्रोन ने उसके वायुक्षेत्र का उल्लंघन करते हुए उसके क्षेत्र में प्रवेश किया था, जिसके बाद उसे मार गिराया गया।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन