jews

यहूदी समुदाय की एक प्रमुख संस्था ने फ़िलिस्तीन की जमीन पर इजराइल द्वारा अवैध कॉलोनी निर्माण के खिलाफ सयुंक्त राष्ट्र सभा में पारित हुए प्रस्ताव का स्वागत करते हुए कहा कि यहूदियों के नाम पर इजराइल शासन द्वारा की जा रही फिलिस्तीनियों के खिलाफ कारवाई का यहूदी समर्थन नहीं करते.

न्यूयार्क स्थित इस संस्था ने कहा कि मुसलमानों की तीसरी सबसे प्रमुख धार्मिक स्थल बैतुल मुक़द्दस यानि मस्जिदुल अक्सा पर भी इजराइल का दावा निराधार हैं. इसी के साथ फिलिस्तीनियों पर इजराइल के अत्याचार को लेकर कहा गया कि पिछले दस वर्ष के दौरान इस्राईल द्वारा बस्तियों का निर्माण, पवित्र धरती पर अशांति और रक्तपात का मुख्य कारण रहा है और इसके कारण सैकड़ों निर्दोष लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

नेटोरी कारटा इन्टरनेश्नल गुट ने इसी के साथ ज़ायोनी शासन और ज़ायोनी बस्तियों के कट्टरपंथी निवासियों की कार्यवाहियों की निंदा करते हुए कहा यहूदियों के नाम पर ज़ायोनी जो कार्यवाहियां कर रहे हैं उनसे हमारा कोई लेना देना नहीं है. नेटोरी कारटा इन्टरनेश्नल गुट ने इसी के साथ ज़ायोनी शासन और ज़ायोनी बस्तियों के कट्टरपंथी निवासियों की कार्यवाहियों की निंदा करते हुए कहा यहूदियों के नाम पर ज़ायोनी जो कार्यवाहियां कर रहे हैं उनसे हमारा कोई लेना देना नहीं है.

नेटोरी कारटा इन्टरनेश्नल गुट ने कहा कि विश्व समुदाय के मुक़ाबले में ज़ायोनी शासन का अड़ियल रवैया, पवित्र पुस्तक तौरेत से पूर्ण विरोधाभास रखता है. यहूदियों के इस गुट ने कहा है कि अमरीका के आर्थोडाक्स यहूदी भी अमरीका द्वारा प्रस्ताव को वीटो न करने के कारण नेतनयाहू की कार्यवाहियों और उनके समर्थकों के निर्लज्ज हमलों के कारण लज्जित हैं.

Loading...