हाल ही के दिनों में भारत में बीफ़ को लेकर बहुत हंगामा मचा है. कौन क्या खाए और कौन क्या न खाए इस बात पर बड़ी चर्चाओं, वाद-विवादों ने बढ़कर उग्र रूप भी धारण किया. इस मुद्दे को लेकर लोग हिंसक भी हुए और मार-पीट समेत हत्याओं तक की खबरें भी सामने आयीं. इस मुद्दे ने ऐसा तूल पकड़ा कि सामान्य बातों को भी बीफ़, गोमांस आदि से जोड़कर बड़ी बड़ी बातें बना ली गयीं. ये मुद्दा अब भारत ही नहीं, बाहर के देशों में भी ज़ोरदार रूप से उठने लगा है.

हाल ही में एक और ऐसा वाकया सामने आया है. हुआ ये कि बांग्लादेश की ढाका यूनिवर्सिटी में कैंटीन में गैर मुस्लिम छात्रों को बीफ़ परोसे जाने का मामला सामने आया है. कैंटीन के ठेकेदार को तत्काल प्रभाव से बाहर निकाल दिया गया है. आरोप है कि कथित रूप से छात्रों को बीफ़ परोस कर उसने समुदाय विशेष की भावनाओं को आहत किया है.

इस मामले में यूनिवर्सिटी के छात्रों से बात कि गयी तो कहा गया कि यूनिवर्सिटी प्रशासन ने कभी भी यूनिवर्सिटी में बीफ़ परोसने की इजाज़त नहीं दी क्योंकि इससे समुदाय विशेष की भावनाओं को ठेस पहुँचती है.

वहीँ यूनिवर्सिटी से इस विषय में बात करने की कोशिश की गयी तो कहा गया कि यूनिवर्सिटी ने ठेकेदार ज़ाकिर को यूनिवर्सिटी में कैंटीन चलाने की अनुमति नहीं दी थी. वह यूनिवर्सिटी की अनुमति के बिना ही कैंपस में कैंटीन चला रहा था.

उधर, इस मामले पर ज़ाकिर का कहना है कि यूनिवर्सिटी ने ऐसा जानबूझ कर किया है क्योंकि वो अवैध वसूली का विरोध कर रहा था.

मामले के तूल पकड़ने के बाद यूनिवर्सिटी ने जांच कमेटी गठित कर दी है. कमेटी से एक हफ्ते के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें