Thursday, August 5, 2021

 

 

 

दिल्ली हिंसा पर UNHRC चीफ़ ने कहा – ‘मुस्लिमों पर हमले और पुलिस कार्रवाई न होने से चिंतित हूं’

- Advertisement -
- Advertisement -

देश की राजधानी दिल्ली में जारी मुस्लिम विरोधी हिंसा को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद प्रमुख मिशेल बाचेलेत जेरिया ने चिंता जताई है। उन्होने कहा कि मुसलमानों पर हमला किए जाने पर पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने की ख़बरों को लेकर चिंतित हूं।

बीबीसी के अनुसार उन्होने कहा, भारत में बीते दिसंबर में लाया गया नागरिकता संशोधन क़ानून मुख्य तौर पर चिंता का विषय है। सभी समुदायों से संबंध रखने वाले भारतीयों ने बड़ी संख्या में, अधिकतर शांतिपूर्ण ढंग से इस कानून का विरोध किया है और देश में धर्मनिरपेक्षता के लंबे इतिहास का पक्ष लिया है।

उन्होने आगे कहा, शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर पुलिस द्वारा अतिरिक्त बल प्रयोग किए जाने की पहले की ख़बरों और अन्य समूहों द्वारा मुसलमानों पर हमला किए जाने पर पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने की ख़बरों को लेकर चिंतित हूं। अब बात बढ़कर बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक हमलों में तब्दील हो गई है और 23 फ़रवरी से लेकर अब तक 34 लोगों की मौत हो चुकी है। मैं सभी राजनेताओं से अपील करती हूं कि हिंसा को रोकें।

इसके अलावा कश्मीर को लेकर उन्होने कहा, जम्मू और कश्मीर में कुछ राजनेता रिहा कर दिए गए हैं और कुछ पहलुओं को लेकर आम जन-जीवन सामान्य होता दिख रहा है, बताया जा रहा है कि 800 के लगभग लोग अभी हिरासत में हैं जिनमें राजनेता, एक्टिविस्ट शामिल हैं।

UNHRC चीफ़ ने कहा, भारी संख्या में सेना की मौजूदगी के कारण स्कूल, व्यापारित प्रतिष्ठान और रोज़गार के ज़रिए प्रभावित हुए हैं और सुरक्षा बलों द्वारा अतिरिक्त बल प्रयोग व अन्य मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को लेकर कोई क़दम नहीं उठाया गया।

उन्होने कहा, सुप्रीम कोर्ट के महत्वपूर्ण फैसले के बाद भारत सरकार ने मोबाइल और इंटरनेट सेवाओं को आंशिक रूप से बहाल किया है मगर प्रशासन सोशल मीडिया इस्तेमाल करने पर अतिरिक्त पाबंदियां लगा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles