मिस्र: अल-सीसी के खिलाफ सड़कों पर जनता, गहराया सियासी संकट

6:20 pm Published by:-Hindi News

राष्ट्रपति अब्दुल फतह अल-सिसी के इस्तीफे की मांग को लेकर पूरे मिस्र में की जनता सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन कर रही है। स्वेज शहर में शनिवार रात सुरक्षाबलों और सैकड़ों सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें हुईं, जिसके बाद सुरक्षबलों को आंसू गैस के गोले और गोलियां चलानी पड़ी।

दरअसल, स्पेन में रहने वाले मिस्र के निर्वासित व्यापारी मोहम्मद अली द्वारा ऑनलाइन साझा किए एक वीडियो के बाद यह विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ है। उन्होने राष्ट्रपति सिसी पर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है और उसे सत्ता से हटाने की मांग की है।

जिसके बाद शुक्रवार देर रात कम से कम आठ शहरों में प्रदर्शनकारी सड़ाकों पर जमा हो गए। सरकार के खिलाफ सबसे ज्यादा गुस्सा काहिरा, अलेक्जेंद्रिया और स्वेज में देखा गया, जहां बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी एकत्रित हुए। शुक्रवार देर रात ट्विटर ट्रेंडिंग लिस्ट में ‘सीसी जाओ’ और ‘जनता शासन को उखाड़ फेंकना चाहती है’ जैसे शब्द सबसे ऊपर थे।

दोहा इंस्टीट्यूट फॉर ग्रेजुएट स्टडीज में मीडिया और पत्रकारिता कार्यक्रम के अध्यक्ष मोहम्मद अलमासरी ने कहा, “मोहम्मद अली इस समय मिस्र में सबसे लोकप्रिय व्यक्ति हैं। यह अल सिसी सरकार के लिए वास्तविक खतरा है, अगर यह वास्तविक खतरा नहीं होता तो वह बीते सप्ताह युवा सम्मेलन में सीधे अली को संबोधित नहीं करते।” वहीं सिसी ने आरोपों को झूठा करार दिया है।

प्रदर्शन में शामिल हुए एक व्यक्ति ने नाम उजागर ना करने की शर्त पर ‘एएफपी’ से कहा, ‘ वहां 200 की संख्या में लोग थे. सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के गोले छोड़ें, रबर की और असली गोलियां चलाईं. कई लोग घायल भी हुए हैं।’ अन्य एक महिला ने बताया कि आंसू गैस से निकली गैस इतनी घनी थी कि वह प्रदर्शन स्थल से कुछ किलोमीटर दूर स्थित उसके अपार्टमेंट तक पहुंच गई।

एक महिला ने कहा, ‘मेरी नाक जलने लगी। बॉलकनी से गंध अंदर आने लगी। मैंने कई युवाओं को हमारे यहां सड़कों पर छुपते भी देखा।’ वहीं एक सुरक्षा सूत्र ने बताया कि वहां कई प्रदर्शनकारी थे। सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई झड़प के बाद करीब 74 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Loading...