Thursday, August 5, 2021

 

 

 

चीन को कोरोनोवायरस प्रकोप पर कठिन सवालों का जवाब देना होगा: ब्रिटेन

- Advertisement -
- Advertisement -

ब्रिटिश विदेश सचिव डॉमिनिक रैब ने गुरुवार को कहा कि कोरोनोवायरस का प्रकोप कैसे हुआ और क्या इसे रोका जा सकता था, इस पर चीन को कठिन सवालों का जवाब देना होगा।

उन्होने कहा, “पूरी तरह से एक बहुत गहरी गोता लगाने की जरूरत है, घटना की समीक्षा के बाद, जिसमें वायरस का प्रकोप शामिल है … इसे विज्ञान द्वारा संचालित करने की आवश्यकता है,” रैब ने कहा, महामारी ने दिखाया था अंतरराष्ट्रीय सहयोग का मूल्य और यह कि ब्रिटेन ने चीन के साथ नागरिकों के प्रत्यावर्तन और खरीद पर अच्छा काम किया था।

रैब ने कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं है: इस संकट के बाद हमारे पास हमेशा की तरह व्यवसाय नहीं हो सकता है, और हमें कठिन सवालों के बारे में पूछना होगा कि यह कैसे हुआ और इसके बारे में कैसे इसे पहले रोका जा सकता था।”

वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  का मंत्रिमंडल कोरोना वायरस से जन्मी महामारी की उत्पत्ति की जांच कराना चाहता है. ट्रंप प्रशासन का कहना है कि इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता कि चीन के वुहान (Wuhan) में चमगादड़ों पर हो रहे अनुसंधान से कोरोना विषाणु की उत्पत्ति हुई।

बीजिंग ने कहा था कि वुहान में जानवरों के बाजार में मनुष्य इस विषाणु से संक्रमित हुआ होगा, लेकिन वॉशिंगटन पोस्ट और फॉक्स न्यूज ने गुमनाम स्रोतों के हवाले से बताया कि कोरोना वायरस एक संवेदनशील जैव अनुसंधान केंद्र से दुर्घटनावश बाहर आया होगा।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने फॉक्स न्यूज से कहा, ‘हम हर चीज की पूरी जांच कर रहे हैं ताकि हम यह जान सकें कि विषाणु बाहर कैसे आया और दुनियाभर में कैसे फैला और आज इसने अमेरिका और पूरी दुनिया में इतनी तबाही मचाई है और इतने लोगों की जान ली है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles