LAC पर तनाव के बीच चीन ने भारतीय तेल टैंकर को समुद्री लुटेरों से बचाया

लद्दाख में चल रहे सीमा पर तनाव के बीच चीनी नौसेना ने अदन की खाड़ी में भारतीय तेल टैंकर समुद्री लुटेरों से बचाकर उसे सुरक्षित भारत के पास तक छोड़ा।  MT नामक इस भारतीय टैंकर पर चालक दल के 31 सदस्‍य सवार थे और वह मिस्र से रवाना हुआ था।

ग्‍लोबल टाइम्‍स के मुताबिक चीनी नौसेना ने तीन विदेशी व्‍यापारिक जहाजों को सुरक्षा प्रदान की। भाारतीय जहाज वादिनगर जा रहा था। भारतीय जहाज पर सेफ्टी कैप्‍सूल था लेकिन कोई भी सुरक्षाकर्मी नहीं था। समुद्री लुटेरों के खतरों को देखते हुए भारतीय जहाज को सुरक्षा के लिए मदद मांगनी पड़ी। यह घटना शनिवार की है। बता दें कि अदन की खाड़ी दुनिया के सबसे खतरनाक जलक्षेत्रों में से एक है।

चीनी की नौसेना के अधिकारी यांग एइबिन ने कहा क‍ि चीनी नौसेना ने अपने मिसाइल डेस्‍ट्रायर तैयुआन को विदेशी जहाजों की मदद के लिए भेजा। इसके अलावा दो और चीनी जहाज क्षेत्रीय सुरक्षा मुहैया कराने के लिए रास्‍ते में मौजूद थे। ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भारतीय कैप्‍टन के हवाले से दावा किया कि उन्‍होंने चीनी नौसेना की तारीफ की।

इससे पहले भारतीय सेना ने सिक्किम की बर्फीली पहाड़ियों में भटके चीनी नागरिकों की मदद कर उनकी जान बचाई थी। दरअसल, ये चीनी नागरिक 3 सितंबर को 17,500 फीट की ऊंचाई पर रास्ता भटक गए थे। इसी बीच भारतीय सैनिकों को इन लोगों के फंसे होने की जानकारी मिली।

इस दौरान चीनी नागरिकों का राशन पानी सब खत्म हो गया था। इनका ऑक्सीजन स्टॉक भी खत्म हो गया था। भारतीय सेना ने तुरंत उन्हें मेडिकल सहायता दी। उनके लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई, खाना और गर्म कपड़े भी दिए। चीनी नागरिकों में दो पुरुष और एक महिला शामिल थी। चीनी नागरिकों ने इस सहायता के लिए भारत और भारतीय सेना का आभार व्यक्त किया।

विज्ञापन