xin1

xin1

जेरुसलम के मुद्दें पर अमेरिका और इजरायल को एक और बड़ा झटका लगा है. चीन ने आधिकारिक तौर पर जेरुसलम को फिलिस्तीन की राजधानी के रूप में मान्यता दे दी है.

चीन की और से जारी बयान में कहा गया कि  बीजिंग एक आज़ाद फ़िलिस्तीनी देश का समर्थन करता है, जो 1967 से पहले की सीमाओं पर आधारित है और उसकी राजधानी पूर्वी येरूश्लम है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा, “चीन, जेरूसलम की स्थिति पर इस्लामी देशों की चिंताओं को समझता है, संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों और अंतर्राष्ट्रीय सहमति के अनुसार यरूशलेम की स्थिति का समाधान करने में सहायता करता है.”

उन्होंने बीजिंग में अपनी नियमित प्रेस ब्रीफिंग के दौरान इस्लामी सम्मेलन (ओआईसी) द्वारा पूर्वी जेरुसलम को फिलिस्तीन की राजधानी के रूप में मान्यता दिए जाने पर कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भी पूर्वी जेरूसलम को फिलीस्तीनी राजधानी के रूप में मान्यता देनी चाहिए.

उन्होंने उम्मीद जताई कि फिलिस्तीन और इजरायल के बीच बातचीत फिर से शुरू हो जाएगी ताकि फिलिस्तीन मुद्दे के व्यापक, स्थायी और स्थायी समाधान को बढ़ावा दिया जा सके.