चीन की कम्युनिस्ट सरकार देश के मुस्लिमों के खिलाफ एक के बाद पाबंदी वाले फैसले ले रही है. हाल ही में रमजान में चीनी सरकार ने कथित तौर पर रोजे रखने पर पाबंदी लगा दी थी. इसके साथ ही दाढ़ी रखने पर भी पाबंदी लगा दी थी.

अब एक बार फिर से चीनी सरकार ने इसी तरह का फैसला लेते हुए स्कूलों में मुसलमानों के लिए अपनी स्थानीय भाषा बोलने पर प्रतिबंध लगा दिया है.

इंडिपेन्डेन्ट की रिपोर्ट के अनुसार, कम्युनिस्ट सरकार के इस फैसले के बाद अब पश्चिमी चीन में आबाद उइगोर जाति के मुस्लिम अल्पसंख्यक स्कूलों में अपनी भाषा नहीं बोल सकेंगे.

सरकार के इस फैसले की मानवाधिकार संगठनों ने कड़ी आलोचना की है. स्थानीय स्कूलके  एक स्कूल के प्रिंसपल ने कहा कि चीनी सरकार स्थानीय भाषा को ख़त्म कर देना चाहती है जिसके कारण उसने यह नया आदेश जारी किया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?