chh

chh

मोदी सरकार ने दावा किया था कि चीन के साथ डोकलाम विवाद को हल कर लिया गया है. साथ ही इस बात को लेकर भी अपनी पीठ थपथपाई थी कि ये पूरा विवाद किसी खून खराबे के बिना सुलझ गया. हालांकि ऐसा होता दिख नहीं रहा है.

डोकलाम विवाद के समाधान की घोषणा को एक महीने के भी वक्त नहीं गुजरा और चीनी सेना एक बार फिर डोकलाम इलाके में सड़क निर्माण शुरू कर दिया, इसके अलावा चीनी सेना ने 500 सैनिकों की तैनाती भी कर दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ध्यान रहे जून महीने में डोकलाम विवाद सड़क निर्माण को लेकर ही पेश आया था. दरअसल भारतीय सेना ने सिक्किम में सीमा पार कर विवादित क्षेत्र में चीनी सड़क निर्माण का काम रोक दिया था. जिसके बाद ये विवाद  करीब 70 दिनों तक चला. इस दौरान दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने डटी रही थीं. इस दौरान कई बार टकराव की स्थिति भी बनी.

एनडीटीवी रिपोर्ट के अनुसार, अब एक बार फिर से पिछले विवादित स्‍थल से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर चीन ने एक वर्तमान रास्‍ते को चौड़ा करना शुरू किया है और इस तरह विवादित डोकलाम पठार पर अपना दावा और मजबूत कर कर रहा है.

इसके अलावा रिपोर्ट में ये भी बताया कि चीनी द्वारा नई सड़क का निर्माण 28 अगस्त को जब भारत और चीन ने तनाव खत्‍म करने का फैसला लिया था, उसके कुछ दिन बाद ही शुरू हो गया था. चीन का लक्ष्‍य इस ट्रैक का विस्‍तार दक्षिण में टोरसो नाला से लेकर झमपेरी रिज तक करने करने का है, जो कि इलाके का एक प्रमुख स्‍थल है जहां भूटानी सेना का बेस है.

Loading...