मुसलमानों के खिलाफ दाढ़ी-बुर्का और हलाल चीजों पर प्रतिबंध लगाने वाली चीनी सरकार ने अब कट्टरता का बहाना बना कर पश्चिमी शिनजियांग प्रांत में मुस्लिमों को एक महीने में आत्मसमर्पण करने को कहा है।

चीनी प्राधिकरण ने कहा कि जो न्यायिक अंग के समक्ष 30 दिन में  अपने जुर्म को कबूल करेगा उनके साथ नरमी से निपटा जाएगा और इसके साथ ही उनकी सजा को भी टाला जा सकता है। शिनजियांग के हामी शहर की सरकार ने अपने अधिकारिक सोशल मीडिया अकाउंट पर यह आदेश दिया है।

बता दें कि चीन सरकार को बीते कुछ महीनों में ऐक्टिविस्ट्स, अकैडमिक्स और विदेशी सरकारों की ओर से बड़ी संख्या में मुस्लिम उइगुर समुदाय के लोगों की गिरफ्तारी पर विरोध झेलना पड़ा है। हालांकि चीन इन विरोधों को दरकिनार करते हुए कहता रहा है कि हम अल्पसंख्यकों के धर्म और संस्कृति की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन सुरक्षा के मद्देनजर अतिवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

ये आदेश ऐसे समय में जारी किया गया जब उइगर मुसलमानों के कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर पश्चिमी देशों के 15 राजदूत शिनजियांग क्षेत्र में टॉप अधिकारियों के साथ बैठक करने जा रहे है।

समाचार एजेंसी रॉयटर्स को एक पत्र का ड्राफ्ट मिला है, जिसके अनुसार ये सभी राजदूत पत्र लिखकर शिनजियांग के कम्युनिस्ट पार्टी के बॉस चेन क्वांगुओ से यह आग्रह करने वाले हैं। चीन में मानवाधिकार के मसले पर इस तरह से कई देशों का सम्मिलित प्रयास काफी मायने रखता है।

पत्र के ड्राफ्ट के मुताबिक, ‘जातीय अल्पसंख्यकों के साथ जिस तरह का व्यवहार हो रहा है, उसको लेकर आ रही रिपोर्टों से हम काफी व्यथित हैं। हालात को बेहतर तरीके से समझने के लिए हम आपके साथ एक मीटिंग करना चाहते हैं।’ इस पत्र को चीन के विदेश मंत्रालय समेत दो और विभागों को भेजने की तैयारी है। फिलहाल चीन के किसी वरिष्ठ नेता का इस पर बयान नहीं आया है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन