चीन और तुर्की नहीं झुकेंगे अमेरिका के सामने, प्रतिबंधों को मानने से किया इंकार

11:25 am Published by:-Hindi News

चीन ने मंगलवार को चेतावनी दी कि ईरानी तेल के खरीददारों पर प्रतिबंध लगाने के अमेरिकी फैसले से मध्यपूर्व और अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा बाजार में उथलपुथल बढ़ जाएगी।

व्हाइट हाउस ने सोमवार को घोषणा की थी कि वह ईरानी तेल के निर्यात पर लगाए गए अमेरिकी प्रतिबंधों से कुछ देशोंको हासिल छह महीने की छूट खत्म कर रहा है। आठ देशों को शुरुआत में छह महीने के लिए यह छूट प्रदान की गई थी। इनमें चीन के अलावा ग्रीस, इटली, जापान, दक्षिण कोरिया, ताइवान, भारत और तुर्की शामिल हैं। छूट की अवधि दो मई को समाप्त हो रही है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गेंग शुआंग ने मंगलवार को नियमित प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘चीन दृढ़ता से एकतरफा अमेरिकी प्रतिबंधों के कार्यान्वयन और उसके तथाकथित न्यायाधिकार का विरोध करता है।’ चीन का कहना है कि वह अपनी कंपनियों के कानूनी और विधि सम्मत अधिकारों की रक्षा के काम करता रहेगा।

trump congress

बता दें कि तुर्की ने अमेरिका की मांग को स्वीकार करने से इन्कार कर दिया है। तुर्की के विदेश मंत्री मौलूद चावुश ओग़लू ने एनटीवी से बात करते हुए कहा कि ईरान के बजाए अन्य देशों से तेल ख़रीदने की अमरीका की सलाह, बड़बोलापन है।

उन्होंने ईरान के तेल पर प्रतिबंध से छूट की समय सीमा न बढ़ाने के अमरीका के फ़ैसले के बारे में कहा कि तुर्की इस प्रकार की कार्यवाहियों और दबाव का विरोधी है। तुर्की के विदेश मंत्री ने कहा कि यह निर्धारित करना कि ईरान के बजाए किस देश से तेल ख़रीदा जाए, अपनी सीमा को लांघना है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें