justin1

justin1

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अपने हालिया भारत दौरे को लेकर गंभीर आरोप लगाए है. कनाडा लौटकर उन्होंने कहा कि उनकी यात्रा को नाकाम करने की साजिश रची गई थी. जिसका एक हिस्सा खालिस्तानी आतंकी जसमीत अटवाल को भारत का वीजा भी देना था.

कनाडाई अधिकारियों का कहना है कि पीएम की भारत यात्रा में व्यवधान पैदा करने के लिए जसपाल का वीजा मंजूर किया गया था. ध्यान रहे खालिस्‍तानी आतंकी जसपाल अटवाल को भारत में कनाडाई हाई कमिश्‍नर द्वारा प्रधानमंत्री ट्रूडो के साथ डिनर के लिए निमंत्रित किया गया था. जिसके बाद ट्रूडो की काफी आलोचना हुई थी.

भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से इस पर कहा गया था कि वीजा के बारे में अभी कुछ नहीं पता कि कैसे अटवाल को यह हासिल हुआ लेकिन कनाडा में मौजूद भारतीय उच्‍चायोग की ओर से इस बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश की जाएगी. मंत्रालय के मुताबिक इस विवाद के दो पक्ष हैं.

जसपाल अटवाल को वर्ष 1986 में पंजाब के पूर्व कैबिनेट मंत्री मल्कियत सिंह सिद्धू की हत्या के प्रयास के मामले में दोषी ठहराया गया था. उसे 20 साल कैद की सजा सुनाई गई थी. हालाँकि गृह मंत्रालय ने सफाई दी थी कि दोषी करार दिए जा चुके खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल का नाम अब गृह मंत्रालय की सिख उग्रवादियों की कालीसूची में नहीं है.

अटवाल को आमंत्रित करने को लेकर कनाडा के प्रधानमंत्री ने कहा कि वह उस व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, जिसने उनके आधिकारिक समारोह में खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल को आमंत्रित किया था. मामला बढ़ने पर कनाडा के प्रधानमंत्री कार्यालय ने सफाई दी थी कि अटवाल आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा नहीं था और न ही उसे पीएम कार्यालय ने बुलाया था. कनाडाई पीएमओ ने भी जांच बिठाई है.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें