cristia

cristia

कनाडा की विदेश मंत्री क्रिस्टिया फ़्रीलैंड ने म्यांमार पर रोहिंग्याओं की नस्लकुशी का आरोप लगाते हुए कहा कि राख़ीन में रोहिंग्याओं पर म्यांमार की और से जुल्म की सभी हदें पार कर दी गई.

संयुक्त राष्ट्र संघ की मानवाधिकार परिषद की जेनेवा में आयोजित बैठक में फ़्रीलैंड ने कहा कि जो म्यांमार की सरकार और सेना ने नस्ली सफ़ाए का अपराध किया है और उन्हें रायटर्ज़ के दो पत्रकारों की म्यांमार में गिरफ़तारी पर भी चिंता है जो इस नस्ली सफ़ाए की रिपोर्टिंग कर रहे थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के विकास के लिए ज़रूरी है कि मीडिया की आज़ादी जैसे बुनियादी अधिकारों का सम्मान किया जाना चाहिए. इसलिए कनाडा को रायटर्ज़ के दो पत्रकारों की म्यांमार में गिरफ़तारी पर गहरी चिंता है जो राख़ीन प्रांत में हुए अपराधों की रिपोर्टिंग कर रहे थे.

ध्यान रहे दोनों पत्रकारों को गत दिसम्बर महीने में उस समय गिरफ़तार कर लिया गया था जब वह दो पुलिस अधिकारियों से बातचीत में राख़ीन में सुरक्षा बलों के हाथों किए गए नरसंहार से संबंधित गुप्त दस्तावेज़ हासिल करने का प्रयास कर रहे थे.

म्यांमार का दावा है कि वह मीडिया की आज़ादी का सम्मान करता है लेकिन उसने संयुक्त राष्ट्र संघ के जांचकर्ताओं को राखीन के उन इलाक़ों में जाने से रोक दिया जिनके बारे में यह कहा जाता है कि वहां हज़ारों की संख्या में रोहिंग्या मुसलमानों को मारा गया था.