pak 5be2663fcb855

भारत की तमाम आपत्तियों को नज़रअंदाज़ करते हुए पाकिस्तान और चीन ने POK के रास्ते बस सेवा की शुरुआत कर दी। यह बस पाकिस्तान के लाहौर से चीन के शिनजियांग प्रांत के काशगर तक यात्रा करेगी। सोमवार की रात को यह बस लाहौर के गुलबर्ग से अपनी पहली यात्रा पर निकली थी।

60 अरब डॉलर के महत्वाकांक्षी चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) के तहत सड़क संपर्क स्थापित करने के उद्देश्य से शुरू की गई इस बस सेवा पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि बस सेवा भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन होगी।

हालांकि चीन के विदेश मंत्रालय ने बस सेवा का बचाव करते हुए कहा था कि इस्लामाबाद के साथ उसके सहयोग का क्षेत्रीय विवाद से कोई लेना-देना नहीं है। चीन ने यह भी स्पष्ट किया था कि इस बस सेवा के शुरू होने से कश्मीर पर उसके रुख में कोई बदलाव नहीं आएगा।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

भारत के विरोध के बारे में पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा था कि उन्हें भारत के राजनयिक विरोध के बारे में जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा था, ‘लेकिन कश्मीर के मुद्दे पर, चीन की स्थिति स्पष्ट है। हमने इसे कई बार स्पष्ट किया है।’

जबकि, पाकिस्तान ने भारत की आपत्ति को खारिज कर दिया था। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय (एफओ) ने कहा था कि हम चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) के जरिए बस सेवा के संबंध में भारतीय विदेश मंत्रालय (एमईए) के कथित विरोध को खारिज करते हैं।

लाहौर से यह बस शनिवार, रविवार, सोमवार और मंगलवार को चलेगी। जबकि काशगर से यह बस मंगलवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को रवाना होगी। बस के लाहौर से काशगर पहुंचने में 36 घंटे लगेंगे। बस का किराया 13000 रुपये है, जबकि एक साथ आने-जाने का टिकट लेने पर 23000 रुपये लगेंगे।

Loading...