श्रीलंका में बौद्ध धर्मगुरु ने लोगों को भड़काया – मुस्लिमों को पत्थर मारने का दिया हुक्म

10:03 am Published by:-Hindi News

कोलंबोः श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर हुए आतंकी हमले के बाद देश भर में मुस्लिमों के खिलाफ माहौल तैयार किया जा रहा है। जिसकी वजह से कई जगहों पर मुस्लिम समुदाय के ख़िलाफ़ हिंसक घटना देखने को मिल रही है। अब एक शीर्ष बौद्ध भिक्षु ने अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ हिंसा का आह्वान किया है।

जानकारी के अनुसार, पिछले हफ्ते वारकागोड़ा श्री ज्ञानरत्न थेरो के भाषण द्वारा एक बार फिर से सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिश की जा रही है। ज्ञानरत्न ने कई बार आरोपों को दोहराया कि केंद्रीय कुरीनागला जिले में एक मुस्लिम डॉक्टर ने 4,000 बौद्ध महिलाओं की नसबंदी कर दी थी।

इस भाषण से लोगों के बीच टेंशन पैदा करने की कोशिश की गई। यह भाषण ऐसे समय में दिया गया है जब हाल ही में बौध धर्माबलंबियों ने मुसलमानों के घरों और उनके दुकानों पर हमला किया था। उन्होने कहा, कुछ महिलाओं ने कहा कि ऐसे डॉक्टरों को पत्थर मार दिया जाना चाहिए। मैं ऐसा नहीं कहता। लेकिन, यही होना चाहिए।

श्रीलंका में सबसे पुराने और बड़े असगिरीय अध्याय के अध्यक्ष थेरो ने मुस्लिमों की दुकानों, रेस्टोरेंट और व्यवसायों का बहिष्कार करने की अपील की है. उन्होंने लंबे समय से चली आ रही उस अफवाह को दोहराया जिसमें दावा किया जाता है कि मुस्लिम रेस्टोरेंट्स में बौद्ध ग्राहकों को नसबंदी वाली दवाई मिलाकर खाना दिया जाता है।

कैंडी स्थित एक मंदिर में उन्होंने अपने भक्तों से कहा, मुस्लिमों की दुकान से खाना मत खाइए। जो लोग उनकी दुकानों से खाना खा रहे हैं, भविष्य में उनके बच्चे पैदा नहीं होंगे. पिछले साल इसी अफवाह के चलते कैंडी में मुस्लिम विरोधी दंगे हुए थे।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें