muslim protest girl

ब्रसल्ज  मंगलवार को ब्रसल्ज अटैक में 31 लोगों की मौत हुई। इस हमले में 270 लोग घायल हुए हैं। हमले में मरने वाली अमेरिका की एक लड़की ने 4 महीने पहले ही फेसबुक पर तेजी से बढ़ते आतंकवाद को लेकर चिंता जाहिर की थी। लड़की ने लिखा था कि मुस्लिमों को नीचा दिखाने की कार्रवाई नए आतंकियों को पैदा करेगी।

 

ब्रसल्ज अटैक की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने ली है। इस अटैक में डच नागरिक और न्यू यॉर्क में रहने वाली सेशा पिंजोस्की (26 साल) और उसके भाई अलेक्जेंडर की मौत हो गई थी। पिंजोस्की ने 13 नवंबर को पेरिस में हुए हमले के बाद फेसबुक पर अपनी चिंता जाहिर की थी।

पिंजोस्की ने लिखा था कि मुस्लिम विरोधी भावना के बढ़ने को नजरअंदाज करना और प्रॉपेगैंडा से और कुछ नहीं, केवल आईएसआईएस को फायदा होगा। पिंजोस्की के 16 नवंबर के इस फेसबुक पोस्ट को उनकी मां मर्जन पिंजोस्की ने फिर से पोस्ट किया है। उनकी मां ने लिखा कि वह अपनी बेटी सेशा के सहिष्णुता वाले संदेश को सबसे साझा करना चाहती थी। (NBT)