Tuesday, June 22, 2021

 

 

 

क्राइस्टचर्च मस्जिद हमले को लेकर बड़ा खुलासा – हमलावर ब्रेंटन टैरंट ने भारत में गुजारे थे तीन महीने

- Advertisement -
- Advertisement -

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर में दो मस्जिदों में नमाज के दौरान अंधाधुंध फायरिंग कर 51 मुस्लिमों को मौत के घाट उतारने वाले ऑस्ट्रेलियाई व्हाइट सुपरमिस्ट आतंकी ने हमले से पहले भारत में तीन महीन एका वक्त गुजारा था। इस हमले से जुड़ी एक विस्तृत खुफिया रिपोर्ट में मंगलवार को इस बारे में खुलासा हुआ है।

792 पन्नों के ‘रॉयल कमीशन ऑफ इंक्वायरी’ ने रिपोर्ट दी है कि स्कूल छोड़ने के बाद 30 वर्षीय हमलावर टैरेंट ने 2012 तक एक स्थानीय जिम में एक निजी प्रशिक्षक के रूप में काम किया था। 2012 में चोट लगने के बाद उसने जिम की नौकरी छोड़ दी।

इसमें कहा गया है कि हमलावर ने जिम की नौकरी छोड़ने के बाद कभी काम नहीं किया। इसकी जगह, उसने अपने पिता से मिले पैसे और इन पैसों को निवेश करने के बाद प्राप्त हुई राशि से घूमना शुरू किया। 2013 में उसने पूरा न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया घूमा और फिर 2014 से 2017 के बीच उसने दुनिया की बाकी जगहों का दौरा किया।

रिपोर्ट के अनुसार टैरंट ने 15 अप्रैल 2014 से 17 अगस्त 2017 के बीच अकेले यात्रा की। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘सबसे लंबे समय तक वह भारत में रहा जहां वह 21 नवंबर 2015 से 18 फरवरी 2016 तक ​था। वह एक महीने या उससे अधिक समय तक चीन, जापान, रूस, दक्षिण कोरिया इत्यादि देशों में रहा।’ हालांकि जांच रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया कि टैरंट ने भारत में तीन महीने के दौरान क्या किया।

बता दें कि इस व्हाइट सुपरमिस्ट आतंकी को न्यूजीलेंड कि अदालत ने बिना पैरोल उम्रकैद (Life imprisonment without parole) की सजा सुनाई थी। जज कैमरुन मांडर ( Cameron Mander ) ने कहा कि यह अमानवीय कृत्य है। सजा सुनाते वक्त जज ने कहा- तुम हमारे देश में सिर्फ कत्लेआम के मदसद से आए थे, इस देश को इंसानियत के लिए जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles