संयुक्त राष्ट्र ने यमन के बारे में जारी अपनी नई रिपोर्ट में कहा है कि “यमन में मानवीय त्रासदी में हैजे के अतिरिक्त मैनिन्जाइटिस भी फैल गया है।”

सऊदी अरब द्वारा यमन के आर्थिक और स्वास्थ ढांचे को नष्ट किए जाने के कारण हैजा के अतिरिक्त इश देश में दूसरी बीमारियां भी फैलने लगी हैं। इसना न्यूज़ एजेंसी ने रूसिया अलयौम के हवाले से खबर दी है कि यमन में संयुक्त राष्ट्र के विकास प्रोजेक्ट के निदेशक लोतसमा ने सनआ में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहाः “पिछले दो सप्ताह में हैजा के अतिरिक्त हमको मैनिन्जाइटिस (दिमागी बुखार) की बीमारियों से भी मुकाबला करना पड़ रहा है, पहले से जारी संकट के साथ यह एक दूसरा संकट है”

संयुक्त राष्ट्र के इस अधिकारी ने कहाः “अब तक हैजा की बीमारी से ग्रस्त होने वाले चार लाख और और 1900 की मौत की खबर हमको मिली है” उन्होंने हैजा और दिमागी बुखार जैसी बीमारियों के फैलने का कारण “हथियारबंद लड़ाई के कारण यमन में स्वास्थ पीने के पानी प्रणाली का नष्ट हो जाना है”

लोतसमा ने कहाः यमन के लगभग आधे अस्पताल और स्वास्थ केन्द्र या पूरी तरह से ध्वस्त हो गए हैं या फिर उनको आंशिक रूप से नुकसान पहुँचा है, बहुत से डाक्टरों को लगभग एक साल से वेतन नहीं मिला है, आज के समय में यमन उस गाड़ी की तरह है जो पूरी स्पीड में खाई की तरफ़ बढ़ रही है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी के साथ बच्चों की सुरक्षा संस्थान ने भी एक बयान जारी करके कहा है “कुपोषण के शिकार दस लाख से अधिक बच्चे यमन के उन क्षेत्रों में रह रहे हैं जहां हैजा का खतरा है”

संयुक्त राष्ट्र के हालिया आंकडों के अनुसार यमन के दो करोड़ नागरिक यानी यमन के 70 प्रतिशत लोगों को मानवीय सहायता की आवश्यकता है और लगभाग बीस लाख बच्चों गंभीर कुपोषण का शिकार है और तीस लाख से अधिक विस्थापित मौजूद हैं।

ग्लोबल रिसर्च

कनाडा की वेबसाइट ग्लोबल रिसर्च ने यमन में अमरीका और सऊदी अरब के एक दूसरे अपराध से पर्दा उठाया है। ग्लोबल रिसर्च ने लिखाः अमरीकी और सऊदी यमन में लोगों के जनसंहार के लिए हैजे को हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं, और इस भयानक अपराध में अब तक चार लाख यमनियों की मौत हो चुकी है। ग्लोबल रिसर्च के अनुसार 2015 से अमरीका ने सऊदी अरब और उसके सहयोगियों का इस अपराधिक युद्ध में साथ दिया है, एक ऐसा युद्ध जिसमें हर दिन युद्ध अपराध हो रह हैं जिसमें से एक यमनियों के जनसंहार के लिए रसायनिक हथियार का इस्तेमाल है।

Loading...