वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खशोगी के मामले में एक के बाद एक नए खुलासे हो रहे है। इस मामले में अब बड़ा खुलासा हुआ है। जिसमे दावा किया जा रहा है कि खशोगी के लापता होने के बाद सऊदी क्राउन प्रिंस सलमान ने खुद अमेरिका फोन लगाकर स्थिति समझाने की कोशिश की थी।

रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) जॉन बोल्टन और ट्रम्प के दामाद जैरेड कुशनर को फोन लगाया था। जिसमे उन्होने खशोगी को कट्टरपंथी संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड का हिस्सा बताते हुए कहा था कि वह एक खतरनाक पत्रकार हैं।

सलमान ने अमेरिका से अपील की थी कि मामले में कोई भी कदम उठाने से पहले उसे दोनों देशों के मजबूत संबंधों के बारे में सोचना चाहिए। हालांकि खशोगी के परिवार ने इस मामले पर बयान जारी कर उनके मुस्लिम ब्रदरहुड से रिश्तों को खारिज किया है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

khasss

उन्होने कहा, “पिछले काफी समय से उन (खशोगी) पर मुस्लिम ब्रदरहुड से जुड़े होने के निराधार आरोप लग रहे थे, जबकि उनका कट्टरपंथी संगठन से कोई संबंध नहीं था। वे किसी भी तरह से खतरनाक नहीं थे। इस तरह के दावे बकवास हैं।”

बता दें कि जमाल खशोगी 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास में अपनी शादी से जुड़े दस्तावजे लेने गए थे, लेकिन वापस नहीं लौटे। हालांकि, अगले कुछ दिनों तक चली जांच के बाद तुर्की ने दावा किया कि खशोगी को सऊदी से जुड़े हत्या’रों की एक टीम ने दूतावास के अंदर ही मार डाला।

Loading...