ढाका। उत्तरी बांग्लादेश में अज्ञात लोगों ने सोमवार को एक सूफी नेता और उनकी नाबालिग बेटी की हत्या कर दी गई. पुलिस को खानकाह से फरहाद हुसैन चौधरी और उनकी गोद ली हुई बेटी रूपाली बेगम का शव मिला. ये खानकाह दिनाजपुर के बोचागंज में स्थित हैं.

ढाका ट्रिब्यून ने अपनी खबर में कहा, दोनों के शव पर गोलियों के निशान हैं और धारदार हथियार से युवती की गर्दन काटी गयी है.’ पुलिस ने बताया कि जब यह घटना हुई तब इलाके की बिजली नहीं थी. फरहाद विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की सेताबगंज म्युनिसिपैलिटी इकाई के पूर्व अध्यक्ष भी थे.

स्थानीय पुलिस के प्रमुख अरजू मोहम्मद ने समाचार एजेंसी रॉयटर से कहा कि वह इस दोहरे हत्याकांड में इस्लामवादी आतंकियों के हाथ होने से इन्कार नहीं कर रहे हैं, लेकिन अभी हमलावरों का पता लगाया जा रहा है. उन्होंने संदेह जताया कि यह इस्लामिक चरमपंथी हमला या राजनीतिक और निजी रंजिश का नतीजा हो सकता है.

हालांकि अभी तक किसी आतंकी संगठन ने हमले की जिम्मेवारी नहीं ली है. बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों के बाद अब सूफियों को भी निशाना बनाया जा रहा हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?