बांग्लादेश ने कथित तौर पर इजरायल से अपने लोगों की जासूसी करने के लिए बड़े पैमाने पर निगरानी उपकरण खरीदे हैं। बता दें कि बांग्लादेश एक मुस्लिम राष्ट्र होने के साथ ही इजरायल से कोई आधिकारिक संबंध नहीं रखने का दावा करता है।

कतर स्थित समाचार चैनल अल जज़ीरा ने मंगलवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा कि उसने ऐसे दस्तावेज प्राप्त किए जिनसे पता चलता है कि बांग्लादेशी सेना ने 2018 में इजरायली उपकरण खरीदे थे।

“ऑल प्राइम मिनिस्टर मेन” नामक रिपोर्ट में कहा गया है कि यह सौदा बांग्लादेशी सैन्य खुफिया एजेंसी, डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ फोर्सेज इंटेलिजेंस (DGFI) और इजरायल की कंपनी PicSix के बीच सेना को मोबाइल फोन निगरानी प्रणाली प्रदान करने के लिए किया गया था।

अल जज़ीरा ने एक “अंडरकवर” के हवाले से कहा, कोई रास्ता नहीं है कि बांग्लादेश में लोगों को पता होना चाहिए कि यह उत्पाद इज़राइल से आता है। अनुबंध में उपकरण के लिए मूल देश हंगरी के रूप में सूचीबद्ध किया गया। कतर स्थित समाचार चैनल ने कहा कि इज़राइली विशेषज्ञों ने बांग्लादेशी सैन्य खुफिया अधिकारियों को उपकरण का उपयोग करने के बारे में प्रशिक्षित किया था।

लंदन स्थित प्राइवेसी इंटरनेशनल के विशेषज्ञ इलियट बेंदिनेली ने कहा कि उपकरण का उपयोग बड़े पैमाने पर निगरानी के लिए किया गया था, जो एक ही समय में 200 से 300 मोबाइल फोन को ट्रेस करने में सक्षम था। बेंडिनेली ने अल जजीरा को बताया, “यह एक सेल टॉवर की तरह व्यवहार करता है, इसलिए एक निश्चित क्षेत्र के सभी फोन इसे कनेक्ट करने जा रहे हैं और यह संचार को बाधित करने में सक्षम होगा।”

उन्होंने कहा, आप अपने फोन, पाठ संदेश, फोन कॉल, और आपके द्वारा विज़िट की जा रही वेबसाइटों पर सब कुछ इंटरसेप्ट करने जा रहे हैं।” उन्होंने यह भी कहा कि जो विशिष्ट मॉडल खरीदा गया था वह “एक पाठ संदेश की सामग्री को बदलने में सक्षम था।”