Tuesday, January 25, 2022

देशद्रोह के आरोप में कश्मीरी छात्रों को जमानत, जज बोले – निजी बातचीत को…..

- Advertisement -

पुलवामा हमले के बाद सोशल मीडिया पर कथित तौर पर राष्ट्रविरोधी टिप्पणी करने के मामले में कश्मीरी छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया था। हालांकि अब आरोपी छात्रों को जमानत मिल गई।

मामले की सुनवाई के दौरान अदालत से साफ कहा कि फेसबुक चैट छात्रों की निजी बातचीत थी। मामले की सुनवाई के बाद एडिशनल डिस्ट्रिक्ट और सेशन जज ने सैयद बी. रहमान ने 20 सिंतबर को तीन कश्मीरी छात्रों की जमानत मंजूर कर दी।

अदालत ने कहा कि उक्त बातचीत छात्रों को बीच उनके फेसबुक अकाउंट के जरिये विशुद्ध रूप से निजी बातचीत थी। छात्रों की बातचीत आईपीसी की धारा 124 (ए) और 153 (बी) के तहत आएगी, इस बात का मेरिट के आधार पर विचार किया जाना चाहिए।

एडिशनल डिस्ट्रिक्ट और सेशन जज ने कहा, ‘दोस्तों के बीच फेसबुक बातचीत के अलावा आरोपी संख्या संख्या 1 से 3 के खिलाफ किसी भी अन्य तरह के गंभीर आरोप नहीं हैं। आरोपी संख्या 1 से 3 की उम्र को देखते हुए और इस तथ्य का ध्यान रखते हुए कि वे लोग पढ़ाई कर रहे हैं, मैं महसूस करता हूं कि इनके भविष्य के हित में इन्हें बेल मिलनी चाहिए।’

इससे पहले 19 मार्च को प्रिंसिपल सेशन कोर्ट ने इन छात्रों की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। अदालत का कहना था कि इन छात्रों की टिप्पणी भारत की अखंडता को नुकसान पहुंचा सकती है। इसके बाद जम्मू और कश्मीर के छात्रों ने एडिशनल डिस्ट्रिक्ट और सेशन कोर्ट में नए सिरे से जमानत की याचिका दायर की थी।

छात्रों को एक-एक लाख रुपये पर्सनल बॉन्ड, एक स्थानीय श्योरिटी और 25-25 हजार रुपये के कैश श्योरिटी पर रिहा किया गया। मालूम हो कि 20 वर्षीय हारिस मंजूर, 21 वर्षीय गौहर मुस्ताक और 23 वर्षीय जाकिर मकबूल को 16 अक्तूबर को स्पूर्ति नर्सिग कॉलेज के प्रिंसिपल बाबू धर्मराजन की शिकायत के बाद गिरफ्तार किया गया था।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles