अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने रविवार को कहा कि नागोर्नो-कराबाख क्षेत्र में हाल के हफ्तों में संघर्ष में चार अज़रबैजानी सैनिकों की मौत हो गई है।

रूसी मध्यस्था में हुए युद्धविराम समझौते के बाद हताहतों की यह पहली रिपोर्ट है। वहीं आर्मेनिया ने भी कहा कि उनके छह सैनिक एक अज़रबैजानी सैन्य हमले में मारे गए, लेकिन यह नहीं बताया कि कब।

बाकू ने कहा कि झड़प जिसमें उसके दो सैनिक घायल हुए, 10 नवंबर को अर्मेनियाई कब्जे से मुक्त हुए एक क्षेत्र में हुई थी। संघर्ष क्षेत्र में तैनात रूसी शांति सैनिकों ने कोई बड़ी झड़प की सूचना नहीं दी। लेकिन कहा कि सप्ताहांत में संघर्ष विराम उल्लंघन की एक घटना हुई थी।

अज़रबैजान के राष्ट्रपति ने कहा है कि यूरोप में ऑर्गेनाइजेशन फॉर सिक्योरिटी एंड को-ऑपरेशन के मिन्स्क समूह (OSCE) ने अभी तक नागोर्नो-करबाख संघर्ष को सुलझाने में कोई भूमिका नहीं निभाई है।

इल्हाम अलीयेव की टिप्पणी शनिवार को राजधानी बाकू में आयोजित एक ओएससीई मिन्स्क समूह की बैठक में ग्रुप के सह अध्यक्ष फ्रांस के स्टीफन विस्कोनी और अमेरिका से एंड्रयू शॉफर के साथ सामने आई।

अलीयेव ने कहा कि क्षेत्र में यथास्थिति बदल गई है और अज़रबैजानी नेतृत्व ने बल और कूटनीतिक माध्यमों से दशकों पुराने संघर्ष को हल कर दिया है।

Loading...
विज्ञापन