Thursday, October 28, 2021

 

 

 

श्रीलंका में मुस्लिमों पर हो रहे हम’ले नहीं थम रहे, दुनिया देख रही सिर्फ तमाशा

- Advertisement -
- Advertisement -

श्रीलंका में मुस्लिम विरोधी हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा के नए मामले में एक मुस्लिम की फैक्ट्री में आग लगा दी गई है।

घटना राजधानी कोलंबो से 35 किलोमीटर दूर मिनूवांगोडा स्थित फैक्ट्री में हुई। बीबीसी ने हमले का वीडियो जारी किया है, जिसमें फैक्ट्री से आग की लपटें निकलती हुई दिखाई दे रही हैं। जब तक आग पर काबू पाया जाता फैक्ट्री पूरी तरह जलकर राख हो गई थी।

इस घटना के एक दिन पहले ही 45 वर्षीय एक मुस्लिम की भीड़ ने हत्या कर दी थी। इस शख्स की पुट्टलम जिले में कारपेन्टर की एक दुकान थी और भीड़ ने उसकी दुकान पर धावा बोल दिया था। इसके अलावा 13 मई को पुट्टालम, कुरुनेगाला और गमपाहा ज़िलों में हिंसा हुई है। इन क्षेत्रों में कई मुस्लिम गांवों को निशाना बनाया गया है।

पुट्टालम ज़िले का नट्टांडिया-दुनमेथरा गांव में तमिल बोलने वाली मुस्लिम आबादी है जबकि इसके आसपास रहने वाली अधिकतर आबादी सिंहली है। दुनमेथरा गांवों के लोगों का कहना है कि सोमवार को 100 से अधिक नकाबपोश लोग गांव में घुसे. गांव के एक युवा निशार ने कहा कि हमलावरों का सामना करने के लिए सभी युवा इकट्ठा हो गए।

उन्होंने कहा कि नकाबपोश लोग शॉर्टकट रास्तों से गांवों में दाख़िल हुए थे। उन्होंने कहा, सबसे पहले उस भीड़ ने मस्जिदों पर हमला किया और बाद में घरों और दुकानों को निशाना बनाया। हमारे लोग रोज़ा खोलने की तैयारी कर रहे थे और तभी यह हमला हुआ।

निशार ने ये भी बताया, “जब महिलाओं ने हमले को देखा तो वह भागकर पड़ोस के जंगल में गईं। वे पूरी रात जंगल में रहीं और अगली सुबह वहां से लौटकर आईं। शहर में लोगों का कहना है कि भीड़ ने मस्जिदों, मुसलमानों के घरों और दुकानों पर हमला किया है। कई घरों को पेट्रोल बम के ज़रिए निशाना बनाया गया है. लोगों का कहना है कि भीड़ ने क़ुरान की प्रतियां भी जलाई हैं।

निशार ने आरोप लगाया कि यह हमला सुरक्षाकर्मियों की मदद से किया गया. उन्होंने कहा कि कई जगहों पर तब आग लगाई गई जब अधिकारी अपनी चौकियों पर मौजूद थे। उन्होंने कहा, “सुरक्षाबलों के ऊपर से हमारा विश्वास उठ चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles