गुरुवार देर शाम राजधानी येरेवान में सैकड़ों अर्मेनियाई लोगों ने सड़कों को अवरुद्ध कर दिया। इस दौरान लोगो में काफी गुस्सा देखने को मिला। वह पिछले महीने अजरबैजान के हाथों नागोर्न-कराबाख की हार को लेकर प्रधान मंत्री निकोलस पशिनियन के इस्तीफे की मांग कर रहे।

पशिनियन ने अपने विरोधियों के कहने पर इस्तीफा देने के आह्वान को खारिज कर दिया। उनका कहना है कि अजरबैजान और अर्मेनियाई सेना के बीच नागोर्नो-करबाख एन्क्लेव और आसपास के क्षेत्रों में छह सप्ताह के संघर्ष के दौरान वह विनाशकारी था।

रॉयटर्स के अनुसार, प्रदर्शनकारियों ने कहा “निकोलस एक गद्दार है” और पुलिस अधिकारियों ने कई लोगों को हिरासत में लिया। इससे पहले गुरुवार को, 17 विपक्षी दलों के एक गठबंधन ने पूर्व प्रधानमंत्री वाजेन मनुकियन के नाम को संभावित कार्यवाहक प्रधानमंत्री के रूप में नामित किया। जब तक कि संसदीय चुनाव न हो जाये।

पशिनियन के खिलाफ जनता में भारी गुस्सा है, जिन्होंने संघर्ष के परिणाम के लिए पूरी जिम्मेदारी स्वीकार की है, लेकिन उन्होंने कहा कि अब वह राष्ट्रीय सुरक्षा सुनिश्चित करने और आर्मेनिया को स्थिर करने के लिए जिम्मेदार है।

10 नवंबर को अर्मेनिया, अजरबैजान और रूस के नेताओं ने संघर्ष विराम पर हस्ताक्षर किए। जिसके बाद नागोर्नो-काराबाख के आसपास और आस-पास अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त एंक्लेव में सैन्य कार्रवाई रोक दी गई।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano