Monday, October 18, 2021

 

 

 

तुर्की का अजरबैजान को हथियार देना हमारे क्षेत्र में उसकी ‘विस्तारवादी महत्वाकांक्षा’: आर्मीनिया

- Advertisement -
- Advertisement -

आर्मीनिया के विदेश मंत्रालय ने कहा कि तुर्की की अजरबैजान और विदेशी लड़ाकों की आपूर्ति कोकेशस क्षेत्र में अंकारा की “विस्तारवादी महत्वाकांक्षा” को दर्शाती है।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “यह स्पष्ट है कि तुर्की आर्टसख (नागोर्नो-काराबाख) के खिलाफ अज़रबैजान की सैन्य आक्रामकता में शामिल है और उसकी आक्रामकता अभी भी जारी है, स्थिति को अस्थिर करने और समझौतों को कम करने के अपने रुख को पीछे नहीं छोड़ता है।”

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की पहल पर, 10 अक्टूबर, 2020 को अर्मेनिया, अजरबैजान संघर्ष विराम को लेकर समझौता हुआ था। उन्होने कहा, “सैन्य उपकरण और मध्य पूर्व से विदेशी लड़ाकों की अज़रबैजान को आपूर्ति को तुर्की सूचना और राजनीतिक अभियान के तहत प्रायोजित कर रहा है, जिसका उद्देश्य विदेश मंत्रियों के स्तर पर पहुंची शत्रुता के उन्मूलन पर समझौते के प्रावधानों को कमजोर करना है।

आर्मेनिया के मंत्रालय ने कहा कि अजरबैजान को तुर्की के समर्थन ने “तुर्की की आकांक्षाओं के साथ-साथ अन्य पड़ोसी क्षेत्रों के साथ अपने विस्तारवादी महत्वाकांक्षाओं के लिए एक मंच के रूप में हमारे क्षेत्र को चालू करने का संकेत दिया।”

ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने 28 सितंबर को कहा था कि अंकारा ने उत्तरी सीरिया से कम से कम 300 लड़ाके भेजे थे। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन ने भी दावा किया था कि सीरियाई शहर अलेप्पो से 300 सीरियाई लड़ाके तुर्की से अजरबैजान शहर भेजे गए। उन्होंने कहा, “इन लड़ाकों को जाना जाता है, ट्रैक किया जाता है और पहचाना जाता है।”

हालांकि तुर्की ने कहा है कि अजरबैजान का समर्थन करने के लिए वह “जो करना आवश्यक है” करेगा, लेकिन भाड़े पर लड़ाकों के भेजने से इनकार कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles