आर्मेनिया ने नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र पर अजरबैजान के साथ संघर्ष के बाद मार्शल लॉ और कुल सैन्य लामबंदी की घोषणा की है। अर्मेनियाई प्रधानमंत्री निकोलस पशिनियन ने रविवार को कहा, नागरिकों से “पवित्र मातृभूमि की रक्षा करने के लिए तैयार हो जाओ।”

वहीं दूसरी और अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव नागरिकों की हत्या करने का आरोप लगाते  हुए कहा कि हम शहीदों के खून का बदला लेते हैं। अजरबैजान के राष्ट्रपति ने कहा, अजरबैजान और सैन्य ठिकानों पर हमला होने के बाद अजरबैजान और करमानिया के विवादित क्षेत्र के आसपास अजरबैजान और आर्मेनिया के बीच लड़ाई छिड़ गई।

राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि अर्मेनियाई सशस्त्र बलों ने भारी तोपखाने सहित विभिन्न प्रकार के हथियारों का उपयोग करते हुए कई दिशाओं से अजरबैजान की बस्तियों और सैन्य चौकियों पर गोलीबारी की। उन्होंने कहा, हताहतों की संख्या पर कोई विशेष उल्लेख किए बिना उन्होने कहा, दुश्मन की गोलीबारी के परिणामस्वरूप, नागरिक आबादी और हमारे सैनिकों के बीच हताहत हुए हैं। कुछ लोग जख्मी हुए हैं। अल्लाह हमारे शहीदों को शांति से सुलाए।

अलीयेव ने कहा कि शहीदों के खून का बदला लेने के लिए, अजरबैजान की सेना ने अर्मेनियाई सैन्य चौकियों पर जवाबी कार्रवाई जारी रखी और कहा कि उसके सैन्य उपकरणों की कई इकाइयां नष्ट हो गई हैं। उन्होंने कहा, “यह अर्मेनियाई फासीवाद की एक और अभिव्यक्ति है।”

अज़रबैजानी नेता ने कहा कि हमलों के अलावा, अर्मेनिया अज़रबैजान क्षेत्रों में अपनी अवैध बस्तियों बना रहा  है। अलीयेव ने कहा “अजरबैजान अपनी भूमि का बचाव करता है, ऊपरी करबख अजरबैजान का है।”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano