अंसारुल्लाह के महासचिव ने अमरीका और इस्राईल को यमन का असली दुश्मन करार दिया हैं. शुक्रवार को अंसारुल्लाह के प्रमुख अब्दुल मलिक अलहौसी ने ये बात कही.

उन्होंने कहा कि इलाक़े में अमरीका और इस्राईल के एजेंटों के रूप में सऊदी अरब और संयुक्त अरब इमारात, यमन पर वर्चस्व जमाने का प्रयास कर रहे हैं. अलहौसी ने कहा कि सऊदी अतिक्रमणकारी यमनी राष्ट्र की पहचान नष्ट करना चाहते हैं.

अलहौसी ने कहा कि जिस दलदल में आज यमनी राष्ट्र के दुश्मन फंस चुके हैं, वह केवल राजनीतिक दलदल नहीं है. उन्होंने आगे कहा कि आज यमनी राष्ट्र की पहचान पर हमला हुआ है, इसलिए कि यह राष्ट्र साम्राज्यवादी शक्तियों के सामने सिर नहीं झुकाना चाहता.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अंसारुल्लाह प्रमुख ने चेतावनी देते हुए कहा कि जब दुश्मन को यमनी राष्ट्र के ख़िलाफ़ सैन्य कार्यवाही में पराजय और निराशा हाथ लगी तो वह यमन पर सांस्कृतिक हमला करके इसकी भरपाई करना चाहता है.

Loading...