पिछले कुछ दिनों से विकास ईरान और सऊदी अरब के बीच हालिया बढ़ते तनाव से काफी प्रभावित हुआ है। इस बीच, अन्य महत्वपूर्ण घटनाक्रम भी हुए है। सीरिया में हमने जो सबसे महत्वपूर्ण घटनाक्रम देखा है, वह सीरिया की सेना और उसके सहयोगियों द्वारा इराक और सीरिया के बीच की सीमा पर अल्बू कमाल शहर की स्वतंत्रता रणनीति थी।

सीरिया की सेना इकाइयों का प्रतिरोध बलों के समर्थन से आईएसआईएस आतंकवादी समूह से लड़ना जारी है, अल्बू कमाल शहर सीरिया के दैरूज्जैर प्रांत के दक्षिण और इराक के सीमावर्ती क्षेत्र मे स्थित है। इस समय अल्बू कमाल आईएसआईएस का अंतिम बड़ा ठिकाना है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सीरियाई सेना ने प्रतिरोध के समर्थन से अल्बू कमाल शहर को आईएसआईएस की बेस को खाली करा लिया था लेकिन दुर्भाग्य से यह क्षेत्र दुबारा आईएसआईएस के कब्जे मे चला गया। कहा जा सकता है कि जिस प्रकार सीरियाई सेना ने अपने सहयोगीयो के साथ मिलकर दूसरे क्षेत्रो को आईएसआईएस के चंगुल से स्वतंत्र कराया है इस शहर को भी आईएसआईएस के चंगुल से स्वंतत्र करा लेगी।

बता दे कि इराक और सीरिया के कई क्षेत्र आईएसआईएस के चंगुल से आजाद हो चुके है। जिन्हे आजाद कराने मे ईरान की क्रांतिकारी गार्डस के अलावा हश्दुश्शाबी का बड़ा हाथ है। और ऐसा प्रतीत होता है कि इस क्षेत्र को भी इन्ही की सहायता से आजाद करा लिया जाएगा।