लंदन मे ब्रिटिश प्रधानमंत्री से मुलाक़ात से पहले इंतेज़ार का अपमान झेल चुके इस्राईल के प्रधानमंत्री को एक और झटका लगा हैं. ये झटका उन्हें फिलिस्तीन में अपनाई जा रही नीतियों के कारण लगा हैं. जर्मन चांसलर एंगला मर्केल ने नेतनयाहू के साथ अपनी मुलकात रद्द कर दी हैं.

जर्मनी ने सोमवार को घोषणा की कि चांसलर अंगेला मर्केल और अन्य उच्चाधिकारियों ने इस्राईल के प्रधानमंत्री से मुलाक़ात रद्द कर दी है. नए वर्ष के मध्य तक होने वाली यह पूर्व निर्धारित मुलाक़ात, इस्राईल में पारित होने वाले नए क़ानूनों के कारण रद्द कर दी गई. जर्मन चांसलर एंगला मर्केल और अन्य उच्चाधिकारी 10 मई 2017 को नेतनयाहू व उनके मंत्रीमंडल के सदस्यों से बैतुल मुक़द्दस में मुलाक़ात करने वाले थे.

जर्मन सरकार के एक प्रवक्ता ने जी-20 की अध्यक्षता के कारण जर्मन चांसलर की बहुत अधिक मुलाक़ातों को नेतनयाहू से उनकी मुलाक़ात रद्द किए जाने का कारण बताया है लेकिन इस्राईली समाचारपत्र हाआरेत्ज़ का कहना है कि इस्राईल के ताज़ा क़ानूनों पर अप्रसन्नता जताने के लिए मर्केल ने यह मुलाक़ात रद्द की है

याद रहें कि इस्राईल ने पिछले सप्ताह एक क़ानून पारित किया है जिसके अनुसार फ़िलिस्तीनियों के जूदिया व सामेरिया नामक क्षेत्रों में बनाए गए हज़ारों घरों को वैधता प्रदान की गई है. ये घर ज़ायोनी मंत्रीमंडल के समर्थन से बनाए गए हैं. यूरोपीय संघ ने भी इस क़ानून की आलोचना की है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें