जंग के मुंहाने पर ईरान – अमेरिका ने खाड़ी में युद्धपोत और मिसाइलों की किया तैनात

4:52 pm Published by:-Hindi News

वाशिंगटन: ईरान से मुकाबले के लिए अमेरिका ने पूरी तैयारी कर ली है। अमेरिका मध्यपूर्व में युद्धपोत और पैट्रियट मिसाइल रक्षा प्रणाली भेज रहा है। अमरीकी रक्षा विभाग पेंटागन का कहना है कि कतर के एक सैन्य ठिकाने पर बम बरसाने वाले US B-52 विमान भी भेजे जा चुके हैं।

पेंटागन ने एक बयान में कहा, ‘‘अमेरिकी बलों और हमारे हितों के खिलाफ अभियान चलाने की ईरान की व्यापक तैयारियों के संकेतों के बीच जवाबी कार्रवाई के लिए यह हथियार प्रणाली पश्चिम एशिया में यूएसएस अब्राहम लिंकन कैरियर स्ट्राइक ग्रुप और अमेरिकी वायुसेना बमवर्षक कार्यबल की मदद करेगी।’’

वहीं सीएनएन के रिपोर्ट के अनुसार, खुफिया सुत्रों से पता चला है कि ईरान संभवत: कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल और क्रूज मिसाइलों को नावों पर फारस की खाड़ी में भेज रहा है। अमेरिकी सेना का मानना है कि क्रूज मिसाइलों को छोटी ईरानी नौकाओं से लॉन्च किया जा सकता है, जिन्हें dhows  के नाम से जाना जाता है।

ईरान ने इन सब को बकवास बताया है। ईरान ने अमरीका की इस तैनाती को “मनोवैज्ञानिक युद्ध” बताया है, जिसका मकसद उनके देश को डराना है। ईरान का कहना है कि वो किसी भी हालत में झुकने वाला नहीं है। उल्‍लेखनीय है कि अमेरिका और ईरान के बीच 2018 से तनाव बढ़ता जा रहा है, जब ट्रंप प्रशासन पी 5+1 समझौते से अलग हो गया था।

ईरान के परमाणु परमाणु कार्यक्रम पर नियंत्रण के संबंध में यह समझौता संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्‍थाई सदस्‍यों (अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन) और जर्मनी ने किया था। यह समझौता 2015 में अमेरिका के तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में हुआ था, लेकिन मौजूदा राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप इससे खुश नहीं थे। उन्‍होंने 2016 के राष्‍ट्रपति चुनाव अभियान में भी इसे बड़ा मुद्दा बताया था और कहा था कि इसमें अमेरिकी हितों को तरजीह नहीं दी गई।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें