ईरान के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेशमंत्री अली अकबर विलायती ने अमेरिका को गीदड़ धमकियों के जवाब में कहा कि अमेरिका की मुसलमानोंं से मुकाबला करने की ताकत नहीं हैं.

तेहरान में इस्लामी क्रांति की सफलता की 38वीं वर्षगांठ के कार्यक्रम में उन्होंने विदेशी मेहमानों के सम्मान में आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अमेरिकी अधिकारियों के पास भविष्य के लिए कोई कार्यक्रम नहीं है और इसी कारण वह अतार्किक बातें कर रहे हैं और उन्हें इन अतार्किक बातों और ढींगों से कुछ प्राप्त नहीं होगा क्योंकि उनके भीतर मुसलमानों का मुक़ाबला करने की ताकत ही नहीं है.

पूर्व विदेशमंत्री ने मध्यपूर्व, सीरिया और इराक़ को विभाजित करने की अमरीकी योजना को विफल बताते हुए कहा कि अमेरिका के साम्राज्यवाद की नीतियों को मुसलमानों के प्रतिरोध ने विफल बनाा दिया. उन्होंने अमरीकी राष्ट्रपति के बयान को ना समझी और विरोधाभास पर आधारित करार देते हुए कहा कि पश्चिमी जगत विशेषकर अमरीका को मुसलमानों के हाथों हार चूका हैं. और अब असमंजस की स्थिति में हैं.

डाक्टर विलायती ने आगे कहा कि ईरान सहित इराक, लीबिया, यमन, सीरिया, फ़िलिस्तीन, अफ़ग़ानिस्तान, ट्यूनीशिया, मिस्र और पूर्वी एशिया के देश भी अब अमेरिका के मुकाबलें में खड़े हैं.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें