Friday, December 3, 2021

विकिलीक्स का खुलासा – अमेरिका ने भारत के खिलाफ पाकिस्तान को दिए थे एफ-16 विमान

- Advertisement -

पुलवामा में आतंकी हमले और भारत की जवाबी कार्रवाई के बाद नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजित डोभाल ने अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन को पाकिस्तान की ओर से किए गए हवाई हमले के सबूत भी सौंपे हैं। जिसमे उन्होने पाकिस्‍तान की ओर से F16 का इस्तेमाल करने के अमेरिका को सबूत दिए हैं। इसमें अमेरिकी रक्षा एआईएम-120 मिसाइल के कुछ हिस्सों को दिखाया गया है।

हालांकि 2008 में अमेरिका ने ही पाकिस्तान को एफ 16 विमान भारत के साथ शक्ति संतुलन साधने के लिए दिये थे। साथ ही अमेरिका ने पाकिस्तान के साथ किए एफ-16 सौदे को न्यायसंगत ठहराते हुए इसके साथ दो शर्तें जोड़ दी थीं। पहली शर्त थी कि वह इस लड़ाकू विमान का इस्तेमाल आत्मरक्षा के लिए करेगा। और दूसरी शर्त थी कि वह इसका इस्तेमाल आतंक के खिलाफ करेगा। इसमें आत्मरक्षा से मतलब है कि अगर कभी भारत के साथ पाकिस्तान का कोई टकराव होता है तो वो आत्मरक्षा के लिए इसका इस्तेमाल कर सकता है।

पाकिस्तान में अमेरिका के तत्कालीन राजदूत एनी पैटरसन ने पाकिस्तान को एफ-16 लड़ाकू विमान और अन्य साजो सामान को खरीदने के खातिर और आतंकवाद के विरुद्ध इसके इस्तेमाल को लेकर अमेरिका की ओर से वित्तीय सहायता की पेशकश करते हुए यही दलीलें रखी थीं।

इस सौदे के पैकेज में 500 एआईएम-120-सी5 अडवांस मिडियम रेंज की एयर टू एयर मिसाइल भी शामिल थी। ये वही मिसाइल हैं जिनके टुकड़े भारतीय वायु सेना ने जम्मू कश्मीर के राजौरी से बरामद किए थे और सबूत के तौर पर इन्हें दिखाया था।

24 अप्रैल, 2008 के सौदे को न्यायसंगत ठहराते हुए पैटरसन ने वाशिंगटन को लिखे पत्र में कहा था, “एफ-16 प्रोग्राम में बढ़ोतरी से भविष्य में पाकिस्तान का अगर भारत के साथ कोई टकराव होता है तो वो परमाणु के बजाय अन्य तरीके से इसका जवाब अपनी आत्मरक्षा के लिए दे सकता है।” इस 20 पन्ने की विज्ञपति का खुलासा विकिलीक्स वेबसाइट ने किया है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles